Headlines News :
डूबते हुए सूरज ने कहा- 'मेरे बाद इस संसार में मार्ग कौन दिखलायेगा? कोई है जो अंधेरों से लड़ने का साहस रखता हो?' और फिर एक टिमटिमाता हुआ दीया आगे बढ़ कर बोला -- 'मैं सीमा भर कोशिश करूँगा!' - सलीम खान, लखनऊ/पीलीभीत, उत्तर प्रदेश Email: swachchhsandesh@gmail.com
.
Home » , » भगवान शिव काबा में विराजमान हैं? Bhagwan Shiv esteblished in Kaa'ba?

भगवान शिव काबा में विराजमान हैं? Bhagwan Shiv esteblished in Kaa'ba?

Written By Saleem Khan on मंगलवार, 28 जुलाई 2009 | मंगलवार, जुलाई 28, 2009

एक बार हिन्दू दोस्त ने मुझसे पूछा कि तुम्हें पता है, काबा भी हमारा ही है! मैंने कहा 'मैं कुछ समझा नहीं! आप कहना क्या चाहते हैं?' उस दोस्त ने कहा कि देखो मक्का में जो काबा है उसमें एक पत्थर लगा है और वह पत्थर ही भगवान शिव हैं और वह वहां विराजमान हैं! इसलिए तुम सब भी उन्ही की पूजा करते हो. देखो इस तस्वीर को (उसने एक तस्वीर दिखाई, जिसमें मुसलमान लोग उस पत्थर को चूम रहे थे). क्या तुम अब भी नहीं मानते कि यह पत्थर केवल मात्र पत्थर ही नहीं बल्कि भाग्वान शिव का साक्षात रूप है और तुम लोग भी इसे पूजते हो !

हालाँकि मुझे मालूम था कि वह जो कह रहा है, वह यूँ ही कह रहा है. बस बहस के तहत उसने यह कुतर्क बोला था. मैंने उस दोस्त से कहा, "दोस्त! अगर यही बात है तो तुम मुसलमान क्यूँ नहीं बन जाते और तुम भी जाओ उस पत्थर को चूमने"

मैंने यूँ ही किये गए सवाल का जवाब भी ऐसे ही दे दिया.

मुझे याद है बचपन में मेरे गाँव में मेरे हिन्दू दोस्त कहते थे कि उसके चाचा या बाबा यह कहते हैं कि तुम जिस काबा की पूजा करते हो उस्मने हमारे शिव भगवान् क़ैद है. कुछ दोस्त यह कहते कि वहां शिव जी ही हैं क्यूंकि वहां शिवलिंग लगा है!! उस वक़्त मैं कुछ भी जवाब न दे पाता क्यूँकि मुझे इस बारे में कुछ भी पता नहीं था.
जब बड़ा हुआ तो यही सवाल कुछ परिस्कृत रूप से पूजा जाने लगा कि जब इस्लाम मूर्ति पूजा के विरुद्ध है तो मुसलमान काबा की तरफ़ मुहं करके नमाज़ क्यूँ पढ़ते हैं?

खैर, मैं हिन्दू भाईयों में अज्ञानतावश, या जानबूझकर कुतर्क के ज़रिये हमेशा से पूछे गए इस सवाल का जवाब देता हूँ कि काबा में भगवान शिव हैं, या मुस्लिम काबा के पत्थर अथवा काबा की पूजा करते हैं.

सबसे पहला जवाब है:

जब आप मानते हो कि वहां (मक्का के काबा में, मुसलमानों के इबादतगाह में) शिव हैं तो आप मुसलमान क्यूँ नहीं हो जाते? (The stone you are seeing in the Kaa'ba is called Hajr-e-Aswad)

दूसरा जवाब:

काबा मतलब किबला होता है जिसका मतलब है- वह दिशा जिधर मुखातिब होकर मुसलमान नमाज़ पढने के लिए खडे होते है, वह काबा की पूजा नही करते.


मुसलमान किसी के आगे नही झुकते, न ही पूजा करते हैं सिवाय अल्लाह के.

सुरह बकरा में अल्लाह सुबहान व तआला फरमाते हैं -
"ऐ रसूल, किबला बदलने के वास्ते बेशक तुम्हारा बार बार आसमान की तरफ़ मुहं करना हम देख रहे हैं तो हम ज़रूर तुमको ऐसे किबले की तरफ़ फेर देंगे कि तुम निहाल हो जाओ अच्छा तो नमाज़ ही में तुम मस्जिदे मोहतरम काबे की तरफ़ मुहं कर लो और ऐ मुसलमानों तुम जहाँ कहीं भी हो उसी की तरफ़ अपना मुहं कर लिया करो और जिन लोगों को किताब तौरेत वगैरह दी गई है वह बखूबी जानते है कि ये तब्दील किबले बहुत बजा व दुरुस्त हैं और उसके परवरदिगार की तरफ़ से है और जो कुछ वो लोग करते हैं उससे खुदा बेखबर नहीं." (अल-कुरान 2: 144)

इस्लाम एकता के साथ रहने का निर्देश देता है:

चुकि इस्लाम एक सच्चे ईश्वर यानि अल्लाह को मानता है और मुस्लमान जो कि एक ईश्वर यानि अल्लाह को मानते है इसलिए उनकी इबादत में भी एकता होना चाहिए और अगर ऐसा निर्देश कुरान में नही आता तो सम्भव था वो ऐसा नही करते और अगर किसी को नमाज़ पढने के लिए कहा जाता तो कोई उत्तर की तरफ़, कोई दक्षिण की तरफ़ अपना चेहरा करके नमाज़ अदा करना चाहता इसलिए उन्हें एक ही दिशा यानि काबा कि दिशा की तरफ़ मुहं करके नमाज़ अदा करने का हुक्म कुरान में आया. तो इस तरह से अगर कोई मुसलमान काबा के पूरब की तरफ़ रहता है तो वह पश्चिम यानि काबा की तरफ़ हो कर नमाज़ अदा करता है इसी तरह मुसलमान काबा के पश्चिम की तरफ़ रहता है तो वह पूरब यानि काबा की तरफ़ हो कर नमाज़ अदा करता है.

काबा दुनिया के नक्शे में बिल्कुल बीचो-बीच (मध्य- Center) स्थित है:

दुनिया में मुसलमान ही प्रथम थे जिन्होंने विश्व का नक्शा बनाया. उन्होंने दक्षिण (south facing) को upwards और उत्तर (north facing) को downwards करके नक्शा बनाया तो देखा कि काबा center में था. बाद में पश्चिमी भूगोलविद्दों ने दुनिया का नक्शा उत्तर (north facing) को upwards और दक्षिण (south facing) को downwards करके नक्शा बनाया. फ़िर भी अल्हम्दुलिल्लाह नए नक्शे में काबा दुनिया के center में है.

काबा का तवाफ़ (चक्कर लगाना) करना इस बात का सूचक है कि ईश्वर (अल्लाह) एक है:

जब मुसलमान मक्का में जाते है तो वो काबा (दुनिया के मध्य) के चारो और चक्कर लगते हैं (तवाफ़ करते हैं) यही क्रिया इस बात की सूचक है कि ईश्वर (अल्लाह) एक है.

काबा पर खड़े हो कर अजान दी जाती थी:

हज़रत मुहम्मद सल्ल. के ज़माने में लोग काबे पर खड़े हो कर लोगों को नमाज़ के लिए बुलाने वास्ते अजान देते थे. उनसे जो ये इल्जाम लगाते हैं कि मुस्लिम काबा कि पूजा करते है, से एक सवाल है कि कौन मूर्तिपूजक होगा जो अपनी आराध्य मूर्ति के ऊपर खडे हो उसकी पूजा करेगा. जवाब दीजिये?

वैसे इसका तीसरा और सबसे बेहतर जवाब भी है: हदीस में एक जगह लिखा है कि "हज़रत उमर (र.अ.) यह फ़रमाते हैं कि मैं इसे चूमता हूँ, क्यूंकि इसे हमारे प्यारे नबी (स.अ.व.) ने चूमा था, वरना यह सिर्फ एक पत्थर ही है इसके सिवा कुछ नहीं, यह मेरा ना लाभ कर सकता है, ना ही नुकसान."

-सलीम खान
Share this article :

116 टिप्‍पणियां:

  1. आज से साढ़े चौदह सौ वर्ष पूर्व अन्तिम अवतार मुहम्मद सल्ल0 ने कहा था कि हज्रे अस्वद (काला पत्थर) स्वर्ग से उतरा है (तिर्मिज़ी) और आज विज्ञान ने भी खोज करके सिद्ध कर दिया कि वास्तव में यह पत्थर जन्नती पत्थर है । इस खोज का सिहरा ब्रीटेन के एक वैज्ञानिक रिचर्ड डिबर्टन के सर जाता है जो स्वयं को मुस्लिम सिद्ध करते हुए काबा का दर्शन करने के लिए मक्का आया, वह अरबी भाषा जानता था । जब मक्का पहुंचा तो काबा में दाखिल हुआ और हज्रे अस्वद से एक टुकड़ा प्रप्त करने में सफल हो गया। उसे अपने साथ लंदन लाया और ज्यूलोजी की लिबार्ट्री में उस पर तजर्बा शुरू कर दिया। खोज के बाद इस परिणाम पर पहुंचा कि हज्रे अस्वद धरती के पत्थरों में से कोई पत्थर नहीं बल्कि आसमान से उतरा हुआ पत्थर है। और उसने अपनी पुस्तक ( मक्का और मदीना की यात्रा) में इस तथ्य को स्पष्ट किया। यह पुस्तक 1956 में अंग्रेजी भाषा में लंदन से प्रकाशित हुई।
    देखिए (www.wathakker.com)पर प्रकाशित एक लेख।
    इसी से यह बात सिद्ध हो गई कि किसी ने उसे आस्था से वहां ले जाकर नहीं डाल दिया कि वह शिव लिंग कहलाए बल्कि यह स्वर्गीय पत्थरों में से एक है। जिसे एक मुस्लिम प्रेम से चूमता है जैसे एक माता अपने बच्चे को , इसे पूजा का भी नाम नहीं दिया जा सकता। क्योंकि इसे चूमते समय किसी को लाभ की आशा अथवा हानि का भय नहीं होता। इसी लिए एक बार जब मुहम्मद सल्ल0 के एक प्यारे साथी और मुसलमानों के शासक अबूबक्र रज़ि0 काबा के पास आए तो हज्रे अस्वद को चूमते हुए कहा ( मैं जानता हूं कि तो मात्र एक पत्थर है। तू न लाभ पहुंचा सकता हैं और न हानि, यदि मैं ने मुहम्मद सल्ल0 को चूमते हुए न देखा होता तो मैं तुझे न चूमता) ज्ञात यह हुआ कि आज एक मुसलमान उस पत्थर को केवल पत्थर मान कर ही चूमता है क्योंकि वह पत्थर स्वर्गीय पत्थर है और हमारे अन्तिम संदेष्टा मुहम्मद सल्ल0 ने उसे चूमा था उन्हीं का अनुसरण करते हैं और बस।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप एक बात बताओ 1400 साल पहले इस्लाम बाना उससे पहले का कोई इक सबूत दिखाओ जरा ......

      इस्लाम का इतिहास ( http://hi.wikipedia.org/s/1vx )
      इस्लाम का उदय सातवीं सदी में अरब प्रायद्वीप में हुआ । इसके अन्तिम नबी मुहम्मद साहब का जन्म 570 इस्वी में मक्का में हुआ था । लगभग 613 इस्वी के आसपास मुहम्मद साहब ने लोगों को अपने ज्ञान का उपदेशा देना आरंभ किया था । इसी घटना का इस्लाम का आरंभ माना जाता है । हँलांकि इस समय तक इसको एक नए धर्म के रूप में नहीं देखा गया था । परवर्ती वर्षों में मुहम्म्द स्० के अनुयायियों को मक्का के लोगों द्वारा विरोध तथा मुहम्म्द के मदीना प्रस्थान (जिसे हिजरा नाम से जाना जाता है) से ही इस्लाम को एक धार्मिक सम्प्रदाय माना गया । अगले कुछ वर्षों में कई प्रबुद्ध लोग मुहम्मद स्० (पैगम्बर नाम से भी ज्ञात) के अनुयायी बने । उनके अनुयायियों के प्रभाव में आकर भी कई लोग मुसलमान बने । इसके बाद मुहम्मद साहब ने मक्का वापसी की और उसे युद्ध में जीत लिया । इस घटना के बाद कई और लोग इस्लाम में परिवर्तित हुए । पर पयम्बर (या पैगम्बर मुहम्मद) को कई विरोधों का सामना करना पड़ा जिसका दमन उन्होंने युद्ध में जीत हासिल कर की ।हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का जन्म सन् ५७० में मक्का मे हुआ था । आपके के परिवार का मक्का के एक बड़े धार्मिक स्थल पर प्रभुत्व था । उस समय अरबी लोग मूर्तिपूजक थे (जो कि बाद मे इस्लाम में पाबंद हो गया )

      मैं और हिंदू धर्म सनातन है ....... कितने ही हजारो साल पुराने सबूत मिलेंगे ....... जैसे :-
      १. ऋग्वेद ( the Oldest book of the world रचना काल 7000 ईसा पूर्व) ऋग्वेद सनातन धर्म अथवा हिन्दू धर्म का स्रोत है । इसमें 1028 सूक्त हैं, जिनमें देवताओं की स्तुति की गयी है । इसमें देवताओं का यज्ञ में आह्वान करने के लिये मन्त्र हैं, यही सर्वप्रथम वेद है। ऋग्वेद को इतिहासकार हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार की अभी तक उपलब्ध पहली रचनाऔं में एक मानते हैं । यह संसार के सर्वप्रथम ग्रन्थों में से एक है। ऋक् संहिता में 10 मंडल, बालखिल्य सहित 1028 सूक्त हैं। वेद मंत्रों के समूह को सूक्त कहा जाता है, जिसमें एकदैवत्व तथा एकार्थ का ही प्रतिपादन रहता है। कात्यायन प्रभति ऋषियों की अनुक्रमणी के अनुसार ऋचाओं की संख्या 10,580 शब्दों की संख्या 1,53,526 तथा शौनक कृत अनुक्रमणी के अनुसार 4,32,000 अक्षर हैं। http://hi.wikipedia.org/s/40w

      २. राम सेतु (1,750,000 years old Ram Setu )
      Space images taken by NASA reveal a mysterious ancient bridge in the Palk Strait between India and Sri Lanka. The recently discovered bridge currently named as Adams Bridge is made of chain of shoals, c.18 mi (30 km) long.

      The bridges unique curvature and composition by age reveals that it is man made. The legends as well as Archeological studies reveal that the first signs of human inhabitants in Sri Lanka date back to the a primitive age, about 1,750,000 years ago and the bridges age is also almost equivalent.

      This information is a crucial aspect for an insight into the mysterious legend called Ramayana, which was supposed to have taken place in tredha yuga (more than 1,700,000 years ago).
      http://www.india-forums.com/forum_posts.asp?TID=914918

      हटाएं
    2. Aor aap yah batao ki makka n madina mai ger muslim ko prawesh kaha diya jaat ahai to रिचर्ड डिबर्टन kab chale gaye bhai...

      BINA HAAT PAAV VAALI BAAT........

      हटाएं
  2. यार आपको एक बात बतलाएँ जितने भी धर्म आए ना उनका एक ही काम था जो ये कह रहे हैं उसके उलट बात करो। न क़ाबा के इलाके के लोगों को शिव का पता था और ना शिव के इलाके (कैलाश) के लोगों को मक्का मदीना पता था। यहाँ वहाँ की बातों से और अनुभवों से ये सब धर्मग्रंथ रच डाले और एक दुसरे की बात काटकर अपनी दूकान चलाने लगे। चलो यदि क़ाबा महज़ एक पत्थर है और आप उसे चूमते हैं तो हिन्दुओं ने जितने पत्थर भगवान समझ कर लगा रखे हैं उन्हें सारे मुसलमान चूमना शुरू कर दें जब आप यह कहते हो यदि क़ाबा शिव है तो वे मुसलमान क्यों नहीं बन जाते। हम मुसलमान ख़ु़द तो शादी करते हैं बीबी एक नहीं चार भी रख लेते हैं, वालिदैन भी ज़रूरी हैं हमारे लिए, समाज भी चाहिए हमें मगर बात जब अल्लाह मियाँ पे आती है तो उनको अकेला कर डालते हैं हम लोग। (अल्लाह एक है) उनसे सब पर रहम करने को कहा जाता है पर हम सब लोग याने इंसान कभी प्यारे अल्लाह मियाँ पर रहम करते हैं ? रहम करो उन पर मत लड़ो यार मत लड़ो।
    हज़रत नूह हमारे पास हैं तो वही के वही नोहा बनकर ईसाइयों के पास हैं और आप जानते हैं के हिन्दुओं के मनू ऋषि की कहानी भी सेम टु सेम। फिर हम अलग कैसे हुए ?
    फ़ीअमानिल्लाह

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. अरे भाई...बवाल.....कभी तो सही टिप्पणी कर दिया करो....हमेशा बेमतलब टिप्पणी ही करते हो....

    कभी तो अपनी बात सही तरह से बताया करो...अरे वो ईश्वर ही क्या जो जना जाये और किसी को जने...फ़िर इन्सान और उसमें फ़र्क क्या रह गया?

    दुनिया के सारे धर्मगर्न्थ इन्सानों ने लिखे सिवाय कुरआन के...वो अल्लाह का कलाम है...और ये बात हर तरह से साबित हो चुकी है...

    इस्लाम को और जानने के लिये मेरे ब्लोग http://qur-aninhindi.blogspot.com पर तशरीफ़ लायें

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Allah 6000 saal dharti pe aya us se pehle kaha tha? Dimag lga lia kro apna mullo

      हटाएं
    2. KASHIF KURAN WAS WRITTEN BY HAZART SHAIB IN THE DIRECTION OF ALLAH BUT NOT BY ALLAH.

      हटाएं
  4. आपने अपने ब्लौग को वोट देने के लिए चार रेटिंग राखी हैं १-ज्ञानवर्धक, २-औसत, ३-ठीक है, ४-नहीं मालूम.
    मेरी राय में आपको पांचवी रेटिंग भी रखनी चाहिए 'निहायत ही घटिया'.
    इन्टरनेट चलाने और ब्लौग बनाने लायक अकल आ जाने के बावजूद आपमें फिरकापरस्ती कायम है. इन सब बातों का ज़िक्र यहाँ करके आपको यह लग रहा होगा की आप बेहद अक्लमंद साबित होंगे और आप इस्लाम की बहुत बड़ी सेवा कर रहे हैं तो मैं कहूँगी की आप अभी भी सातवीं शताब्दी से आगे नहीं बढे हैं. मुझे तो लग रहा है की अनपढ़ मुसलमान से नहीं बल्कि आप जैसे पढ़े-लिखे मुस्लमान से ज्यादा खतरा है जिसे इतना इल्म नहीं है की बेसिरपैर की बातों को अपनी ब्लौग पोस्ट बनाकर सिर्फ सनसनी ही पैदा की जा सकती है, कोई लाभ नहीं मिलता.
    वैसे हिन्दू एक बात पर एकमत हैं की इस्लाम दुनिया में सिर्फ १५०० साल के लिए आया है. चन्द साल बचे हैं आप लोगों को, चैन से जियें और जीने दें.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. islam sirf 1400 saal k liye nahi... islam is a rays... or ye roshni jab tak hai tab tak islam rahega... or hum to chain se jina chahte hai lekin aap logo ko he samajh me nahi aa raha.. aayega.. har kafir ko aayega sirf or sirf marne k baad.. ki wo kya kar gaya.. duniya me..

      हटाएं
  5. वैसे ये मानने में क्या बुराई है कि शिवलिंग काबा में है.. क्या घट जायेगा.. और आप धर्म बदलने की बात क्यों करतें है.. आप मानते है कि इश्वर एक है तो फिर सभी धर्म वाले चाहे किसी की पूजा करे अंत में तो इश्वर की ही पूजा करते है न.. जैसे आप मानते है कि जो आप कर रहे है वो श्रेष्ठ है वैसा दुसरे भी मानते है..


    वैसे अगर ग्रिनविच मीन टाइम में खामियां है तो आप कौनसा समय मानते हैं? काबा मीन टाइम?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bhai inhone dharm badlwak hi apna kunba badhaya hai........

      aur rhi baat center ki earth is round.... so gol chijo ka to center kahi bhi ho sakta hai

      हटाएं
  6. सलीम भाई, आपकी सारी बाते १००% सही हो सकती है, मुझे कोई संदेह नहीं ! मगर आप और आपके अन्य मित्र क्या एक बात का इमानदारी से जबाब दे सकते है कि अगर इस्लाम इतना ही उच्चकोटि का धर्म था/ है, अगर इस्लाम और कुरान की शिक्षाये इतनी बेहतर किस्म की है तो इस दुनिया में अगर सारी नहीं तो ज्यादातर समस्याए फिर इस्लाम से ही क्यों जुडी है ? बड़े भाई, अन्दर क्या है वह ज्यादा अहमियत नहीं रखता, सामने व्यावहारिक पटल पर क्या दीखता है, वह ज्यादा अहमियत रखता है !

    मैं कल जब आपकी वह इस्लामिक बैंक वाली पोस्ट पढ़ रहा था तो मुझे हंसी आ रही थी, गनीमत समझो कि आप इस देश में तथाकथित अल्पसंख्यक हो इसलिए इस्लाम की खुलकर पैरवी कर पा रहे है, बहुसंख्यक हिन्दू होते और कोई हिन्दू बैंकिंग प्रणाली की बात करते तो अब तक हमारे ये ताथाकथित सेकुलर, तमाशा खडा कर चुके होते ! दुसरे शब्दों में अगर कोई हिन्दू पकिस्तान में किसी हिन्दू मान्यता की बात करता तो अब तक तो .....!
    इंसाअल्हा, खुदा सबको सद्बुद्धि दे !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. problem na he islam me hai or na he islam k logo me.. problem hai... dusre log jo islam ko bura karne me lage hai.. kabhi babri masjid shaheed karke.. to kabhi kisi bhi attack me muslim ka naam lekar...

      हटाएं
  7. भाइयो ! मात्र मुस्लिम वह समुदाय है धरती पर जिनको अपने ईश्वर ( अल्लाह) का ज्ञान प्राप्त है। इसी लिए वह मात्र एक ईश्वर की पूजा करते हैं क्योंकि वह समझते हैं कि इस संसार का पैदा करने वाला,मानव की रचना करने वाला, विश्व को चलाने वाला मात्र एक अल्लाह है और हम सब इस धरती पर परीक्षा के लिए बसाए गए हैं एक दिन आने वाला है कि सारी सृष्टी ईश्वर के दरबार में एकत्र होगी और उनके कर्मो का लेखा जोखा लिया जाएगा- फिर या तो स्वर्ग है अथवा नरक।
    हमें सत्य का पता है और हर मुस्लिम को सत्य का ज्ञान है इसी लिए हम इन बातों को खान-पान से भी ज्यादा महत्वपूर्ण समझते हैं। इस्लाम प्रत्येक मानव का धर्म है और ज़ाहिर है कि जो लोग इसे नहीं जान रहे हैं इसका विरोध तो करेंगे ही।
    आज लोग स्वयं मानव की पूजा कर रहे हैं औऱ समझ रहे हैं कि मैं ईश्वर की पूजा कर रहा हूं------ ऐसा क्यों हुआ ? मैं आपको बताता हूं अवतार की कल्पना लोगों ने अपनाई और समझने लगे कि कृष्ण जी ईश्वर का अवतार ले कर आए थे इस लिए इनकी पूजा ईश्वर की पूजा है -- लेकिन मात्र कल्पना से कोई बात नहीं बनती इस तर्क में कितना दम है इसे भी देखना चाहिए --- श्री राम शर्मा कल्कि-पुराण के 278 पृष्ठ पर अवतार की परिभाषा इस प्रकार करते हैं ( समाज की गिरी हुई दशा में उन्नती की ओर लो जाने वाला महामानव नेता) अर्थात मानव में से महान नेता जिनको ईश्वर मानव मार्गदर्शन हेतु चुनता हैं। ज्ञात यह हुआ कि ईश्वर धरती पर मानव रूप ले कर नहीं आया बल्कि मानव में से ही कुछ लोगों को संदेष्टा घोषित किया, और आकाशीय दूतों द्वारा उनपर अपना संदेश उतारा ताकि लोगों का मार्गदर्शन करें, उनको कुछ चमत्कारियां भी दी गईं जिनको देख कर लोगों ने उन्हीं को ईश्वर के रूप में मान लिया और उन्हीं की पूजा करने लगे। शायद समझ में आ गया होगा कि मुर्ति-पूजा क्यों और कैसे शुरू हुई। सब से अन्त में ईश्वर ने सम्पूर्ण मानव के मार्गदर्शन हेतु कल्कि अवतार को भेजा जो मक्का में पैदा हुए और जिनकी आगमन की प्रतीक्षा आज तक हिन्दू समाज में हो रही है हालांकि वह आ चुके -- विस्तृत जानतकारी के लिए डा0 वेद प्रकाश उपाध्याय की पुस्तक कल्कि अवतार और मुहम्मद सल्ल0 का अध्ययन कर लें ।
    भाइयो !मैं कोई अलग पथ की ओर आप को निमंत्रन नहीं दे रहा हूं बल्कि यह आपकी अमानत है जिसे में आप तक पहुंचाना चाहता हूं। जो लोग इन बातों का विरोद्ध करते हैं वह वास्तव में अपने ही ईश्वर का विरोद्ध कर रहे हैं । यदि आप इन बातों पर चिंतन मनन करते हैं तो हमें इसका कोई लाभ नहीं होने वाला है आपका ही अन्तिम जीवन सुधरेगा।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. आधुनिक ज्ञान के आधार पर बच्चा-बच्चा जानता है कि धरती गोल है। किसी गोल चीज का केन्द्र कहां होता है आपको पता होगी। यदि यह पता होगी तो यह भी पता होगा कि काबा धरती के केन्द्र में नहीं है।

    धरती के सतह पर किसी स्थान को 'केन्द्र' कहना मूर्खता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. @ Jyotsna जी,

    आपने कहा "वैसे हिन्दू एक बात पर एकमत हैं की इस्लाम दुनिया में सिर्फ १५०० साल के लिए आया है. चन्द साल बचे हैं आप लोगों को, चैन से जियें और जीने दें.

    ये आपकी और सारे सनातन (हिन्दु) समाज की बहुत बडी गलतफ़हमी है जिसको मैं दुर कर देता हूं...

    कुरआन और सही हदीस में साफ़ ज़िक्र है...---- की "कयामत तब आयेगी जब मर्द और औरत खुलेआम सडंक पर "ज़िना"(सहवास) करेंगे और उस वक्त वो इन्सान जन्नत मे जायेगा जो उनसे कहेगा की ज़रा सडक के किनारे हो जाओ।

    कयामत आने से पहले "दज्जाल" आयेगा जिसकी एक आंख नही होगी वो दुनिया में एक जन्नत और जहन्नुम बनायेगा और अपने आपको खुदा कहेगा....जो उसकी जन्नत में जाना कुबुल करेगा वो अल्लाह की जहन्नुम में जायेगा और जो उसको खुदा मानने से इन्कार करेगा वो उसकी जहन्नुम और अल्लाह् की जन्नत में जायेगा। वो चालीस साल राज करेगा दुनिया पर...


    उसके बाद "ईसा अलैहिस्सलाम" (ईसा मसीह) दुनिया में आयेंगे और उसको खत्म करेंगे...फिर ईसाईयों को बतायेंगे की मैं अल्लाह या खुदा का बेटा नही हूं...मैं तो सिर्फ़ उनका पैगम्बर हूं....और फिर पूरी दुनिया में १०० साल तक इस्लाम की हुकुमत होगी...उसके बाद कयामत आयेगी

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kya baat hai, dajjal ka design banakar dekho, haste - 2 gir jaoge....
      had hoti hai lambi - 2 fainkane ki..?

      हटाएं
    2. pahli baat to agar app kewal eslaam ko hi maanna chate to to aapki soch ko koi badl bhi nai sakta dusri baat aapko bata du chahe kuraan ho ya hadees,ya fir wo ramayan hi kyao na ho jab ham kisi pavitra paath ko padhte h,koi bhi path hame pahle insaaniyat ka dharm ssikhata h,or rahi baat kayamat ki uski baat to aap rahne hi dijiye boz wo to kabi bhi a sakti h, jaise aap kuran padhte h,jo pahle hua wo na aapne dekha tha na maine but app pahle ek insaan h,baad me hindu muslim ya sikkh ya fir essai.mai aapse hindu muslim k dhrm k liye aargument nai kr rahi,app apne dharm ko maante h maniye but dusro ki bhi suniye,aap ache karm kariye mkka madina me jane se jaannat nai milti ache karm karne se milti h.muje lagta h aap k yaha inssaniyat se jyada dharm ko jyada priority di jati h.

      हटाएं
  10. इस ब्लोग को पढ़ा, मैं हर धर्म का सम्मान करता हूँ, और लगा शायद यहाँ इस्लाम से संबंधित कुछ अच्छा पढ़ने को मिलेगा पर पता चला कि इस्लाम के नाम पर केवल दुकान लगा रखी है, अरे भाई लोगों तर्क करने से या किसी के धर्म बदलवा लेने मात्र से धर्म का महत्व नहीं बड़ जाता है। भगवान एक है मेरा तो यही मानना है और अगर धर्म का महत्व इस्लाम समाज इतनी अच्छी तरह से समझता है तो कौन से धर्म ग्रंथ में यह लिखा है कि जाओ हत्याएँ करो, बम फ़ोड़ो, मुँबई पर हमला करो। दरअसल इस्लाम को इस्लामिक लोगों ने ही विकृत रुप देकर अपना उल्लू सीधा किया है।

    कोई भी धर्म ग्रंथ कहीं भी यह नहीं कहता कि दूसरे का खून करो, सोचें और जबाब दें।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. gujraat me dange or babri masjid shaheed ki gayi uske baare me aapka kya khyaal hai

      हटाएं
  11. शीघ्र ही मेरा अगला लेख पढ़े "जिहाद का वर्णन भगवत गीता में भी"

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. जिहाद का मायने क्या है? क्या जिहाद का ज़िक्र कुरआन में ही है या दुसरे धर्मों की किताबों में भी है? क्या श्री कृष्ण ने भी जिहाद करने का हुक़्म दिया है या नहीं? क्या किसी एक ही काम के दो संबोधन देना उचित है अर्थात शहीद भगत सिंह को अँगरेज़ आतंकवादी कहते हैं और हम देशभक्त? आखिर कौन सही है? साध्वी प्रज्ञा को सीबीआई आतंकवादी कहती है! क्या वह वाकई आतंकवादी है? ओसामा बिन लादेन को अँगरेज़ आतंवादी कहते हैं ! क्या वह वाकई आतंकवादी है?

    इन सभी सवालों का जवाब हैं, मेरा अगला पोस्ट!!

    "जिहाद का वर्णन भगवत गीता में भी"

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. आप तो सारे वर्णन अपने शब्दों में करते हैं जो आपको पसंद हो वो स्टेटमेंट अपने शब्दों में तोड़ मरोड़ कर लिख देते हैं, चलिये तब भी आपके अगले लेख "जिहाद..." का इंतजार है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. मियां काशिफ, तुमने बड़ी तफसील से लिखा है:-

    "कुरआन और सही हदीस में साफ़ ज़िक्र है...---- की "कयामत तब आयेगी जब मर्द और औरत खुलेआम सडंक पर "ज़िना"(सहवास) करेंगे और उस वक्त वो इन्सान जन्नत मे जायेगा जो उनसे कहेगा की ज़रा सडक के किनारे हो जाओ।

    कयामत आने से पहले "दज्जाल" आयेगा जिसकी एक आंख नही होगी वो दुनिया में एक जन्नत और जहन्नुम बनायेगा और अपने आपको खुदा कहेगा....जो उसकी जन्नत में जाना कुबुल करेगा वो अल्लाह की जहन्नुम में जायेगा और जो उसको खुदा मानने से इन्कार करेगा वो उसकी जहन्नुम और अल्लाह् की जन्नत में जायेगा। वो चालीस साल राज करेगा दुनिया पर...

    उसके बाद "ईसा अलैहिस्सलाम" (ईसा मसीह) दुनिया में आयेंगे और उसको खत्म करेंगे...फिर ईसाईयों को बतायेंगे की मैं अल्लाह या खुदा का बेटा नही हूं...मैं तो सिर्फ़ उनका पैगम्बर हूं....और फिर पूरी दुनिया में १०० साल तक इस्लाम की हुकुमत होगी...उसके बाद कयामत आयेगी"

    फुल कॉमेडी है तुम्हारी कुरान और हदीस में कही बातें. भाईजान, कोई बेवकूफ ही इस तरह की इंडिया टी वी छाप बातों में यकीन कर सकता है. पूरी दुनिया में जब मुसलमानों की वाट लग रही है तब तो तुम्हारा अल्लाह जन्नत में हूरों के साथ रंगरलियाँ मना रहा है! कौन ऐसी बेसिरपैर की बातों में यकीन करेगा!

    तुम लोग तो छोडो ये कम्प्युटर और ब्लॉगिंग वगैरह. ये कतई इस्लामी नहीं हैं. कबीलाई धर्म को माननेवाले हो तुम लोग, तुम्हें ये जादू-टोटके जैसी बातें ही समझ में आती होंगी.

    दूसरों को पागल समझा है क्या?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Jyotsana jra apni juban ko lagam do tum jra jyada hi bol rhi ho islam key barey mey tumney allah ka ek namuna to dekh hi liya hey utrakhand ka wo kayamat ki ek jhalk thi wo jhalk hinduo or muslimo dono key liye thi samjhi nahi allah tera bhi bura hal karega

      हटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. Jyotsna...

    you know what ? tum islam ke kafi kareeb aa chuki ho... ab adiyal saand ki tarah mat bano. khud se pucho ke tumne kya paya yahan aa kar .. or kya follow kar rahi ho

    is dikhave se dur raho... hakiqat mein tum jo thi woh ab nahi.. tum sidhi raah per ho .. kyun janbujh kar us raah per chalna chah rahi ho .. jisko shaitaniyat ki raah kehte hein... ... kisi or ki di huyee taklif kisi or jagah darshana bewakufi hei... zara dhyan se J. ... badla lene ka yeh tarika galat hei tumhara

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. इस्लाम तो है ही कबीलाई पन्थ/मज़हब (धर्म नहीं) आगे कुछ कहना ही व्यर्थ है।;गीता का ज़िहाद अपने ही भाइयों के विरुद्ध है,अपने ही धर्म में, उनके अन्याय के विरुद्ध;न कि अन्य धर्म के विरुद्ध,उसका आतंकवाद से तुलना मूर्खता ही है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. islam me jihaad ka matalb apne.. soul se hai .. burayi ko rokne se hai jo insaan k ander panapti hai.... or jo duniya me bisfot ho rahe hai.. ye america ka hath hai.. agar aap 1 insaan bankar(yaani dharmik na bane warna islam me he kami nazar aayegi)socho ki hamare desh par kabza kisne kiya muslim ne ya england ne.. iraq par hamla kisne kiya ruse par attack karke usko chote chote parts me kisne karwaya india ne, muslim ne nahi america ne.. jab aap apne dimag ko sahi rakhkar 1 insaan bankar socho to islam sabse acha nazar aayega.. or warna dharmik bankar.. socho ge.. to tumhe hamara kisi ko daan bhi dena bura lagega.. thanks..

      हटाएं
  18. kyon pareshan hota hai?meri kament ko suresh ke blog par ja kar padhle. use maine jo jawab diya hai tu khush ho jaega.use kah dena ki ab ayodhya ki tarha kabe par halla bol ne ki taqat rakhta hai to pahle suresha ko lider banado.uski faat javegi.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. अल्हम्दुलिल्लाह की दुनिया कितनी बडी थी? क्योकि मक्का-मदीना न तो एशिया के मध्य मे है, न युरेशिया के, और न ही दुनिया के| और यह भी देखिये कि आप उत्तर दक्षिण का मध्य पता कर सकते है, पूरब - पश्चिम का नही| क्या अल्हम्दुलिल्लाह यह समझते थे कि दुनिया एक प्लेट की तरह है?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. O Katua saala shri KishenKi tulna tu Jahhad ka saath mat kar woh dhram uyudh tha woh ahchaai ka Burai se uyuth(war) tha. Osaama Bin Ladan to Nirdosho ko Maratha hai woh to Ravaan ka samman hai woh to kanse ka samman hai. Bhakti to Ravan Ne Bhi Ki thi par wo doosara bakassore Bhakto ko marta (kill) tha. ossam bin ladane bhi yahee kar raha hai aur Tuu Mujha usi ka eak Rachas danav hai chinta mat kar yeh ossama bin ladane awashey maara jayga. Islaam ka naam par bakassor logo ko marrne vala tere jase rakshas ka Bhi anat hoga. Jo atangwadi ko atangwadi nahi maanta hai. Bulki uska saath deta ho. tera jaisi Ghdaaar ko to pakada kar aur hath paer bandh kar Pagal dogs ka paas Chod dena chayia Har kisi anthakwadi Ka yahi harsh hona Chaahiya Tu Bhi unhi aatankwadiyo ma sa eak hai ba. tujha dharti par jeena ka koi adhikar nahi hai. Tera jaisa logo ka karan hi Islaam ko Anthankwadi manna jata hai aur muslimo par dought kiya jata hai.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. saleem tara jaisa Is desh ka dushman hai jo kahta hai ki ausma bin ladane aantakwadi nahi Balki dhram uyudh kar raha hai Tujhe Bhi Jehhad ki sana ma Bharti ho janna chayia Tu Indian kahlaane ka layak Nahi hai. tumahra jaisa aantakwadiyo ko maarna ka liya hi Bhagwaan shri kishan ka Janam hota hai. Na ki tum Jaisa Pappiyoa ka saath dana ka liya

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. saleem jaroor padhna
    http://www.hindusthangaurav.com/books/jihad%20ke%20pralobhan%20sex%20&%20loot.pdf

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. Jyotsana ji ,jadu tona to aapki shaan ki hai ,har DHARMIK KAAND ke liye paisa lagana parta hai, Islam mian IBADAT karne Main kuch kharch nahi hota, aap comuter bloging internet chorne ki baat kar rahi ho,tozara ye bataye aapne in sabko apnakar kaunsa teer maar liya.bus munh na khulwaye for example TASLIM ka taaza blog padh lena, BAAT KAM KIJE ZAHANAT KO CHUPATE RAHIYE....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. सलीम साहब ! कुरान मनगढ़ंत है ,किबला लिखने वाले को ये नहीं पता था की दुनिया गोल है तुम जिधर भी पैर करो लात उसे हे दिखाओगे ,एक काम करो आज से सर नीचे और पैर आसमान तरफ के या खड़े खड़े सोया करो !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. स्वस्थ वैज्ञानिक बहस की इस्लाम में गुंजाईश कम ही दिखती है. इस्लाम का चश्मा आँखों पर चढ़ा कर और हाथ में हदीस की तलवार लेकर तर्क नहीं हो सकता. इतिहास साक्षी है कि इस्लाम ने ऐसी कितनी ही विकसित सभ्यताओं को पद दलित किया ही जो इसके विचारों से सहमत नहीं थीं. पर अब समय बदल चुका है. तर्क, दर्शन और मीमांसा को जीवन पद्धति बनाने वाला भारत-पुत्रों का समाज अतिआधुनिक सोच के साथ साथ अति आधुनिक सैन्य व्यवस्था का भी स्वामित्व रखता है.

    कुतर्क और हठधर्मिता को सीमित, स्वार्थपरक सोच रखने वाले राजनितिक दल भले ही सर-माथे पर रखें, आधुनिक और विश्व-परक विचारों वाला भारतीय युवा इस के सामने अब माथा नहीं टेकने वाला.

    हिम्मत जुटाएं और अपने धार्मिक ग्रंथों को तर्क की कसौटी पर कस कर देखें. उत्तर वहीँ छिपे हैं. कुतर्कों के पीछे मुंह छिपाने से 'शेख-चिल्ली' 'कालिदास' नहीं बन जाता.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Bhai app islam aur scienec ki baat kar rahe hai ? scienec abhibhi islam se bhaot piche hai. Ye main nahi kehata hu, ye kaha hai France vidwab scientist "Maurice Bucaille" aap reference ke liye unki kitab "The Bible, The Qur'an and Science" padh sekte hai.

      हटाएं
    2. Hahaha mansuri aisi koi kitaaab he nahe hai ,,,:D

      हटाएं
  26. hahhaahhhaaa

    aur kya kahun apki bewkufi par...
    aap jaise log hi hain jo ye to mante hain ki khuda ek hai..par ye nahi mante ki usne sirf insan ko banaya hai...bantne wala to khud insan hai...apne kuran to padhi hai kintu use samajh nahi pae...aap jaise log hi hain jo antakwad ko naam jehad ka dete hain...aur puri muslim communitie ko badnam karte hain...sabse pahle aap har dharm ke granth padhe jo aapke liye mumkin hi nahi hai...kyonki hindu dharm itna vishal hai aur itna purana hai...ki aapko ise samjhne ke liye kai janam lene padenge...kyonki jo insan shri karishna ki hi mater insan manta hai uski mansikta kitni nimn sater ki hogi andaza lagana asan hai...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. खुदा के वास्ते पर्दा न काबे से उठा जालिम
    कहीं ऐसा न हो यां भी वही काफिर सनम निकले...

    ....सनम=मूर्ति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप लोगों की सभी बातें मानें पढ़ी और लगता है धर्म के पीछे दीवाने हो गयें है और एक दुसरे को बदनाम करने पर लगे है जरा सोचिए कोई धर्म आखिर बना ही क्यों

      आप सही से अपनी छोटी सी जिंदगी को जिए और आप के साथ जो इस जमी पर है धर्म जीवन जीने का तरीका बताता है कोई धर्म ये नहीं कहता की किसी को निचा दिखओ किसी का अपमान करो

      और आप लोगो में कोई है जो ये साबित करे की उसका धर्म कहता है तो बताइये

      कोई धर्म ग्रन्थ नहीं कहता है की आप अपनी ख़ुशी के लिए दूसरों को हताहत करे

      और हम हिंदुस्तान में रहते है यहाँ आप लोगों की सोंच से अधिक धर्म है और कोई धर्म किसी से कम नहीं है अगर ज़हीनी है पढ़े लिखें है तो सोचिए अपने धर्म को कैसे और बेहतर करे अपने आसपास को कैसे बेहतर करे देश को कैसे बेहरत करे

      जहाँ तक मन्दिर मस्जिद की बात है जिस समय जिस का सासन था उसके हिसाब से हुआ
      आप इतिहास पढ़े कौन मस्जिद , मन्दिर ,काबा ,गुरुद्वारा ,कैसे बना पता चल जायगा

      और लिखिए आप दोनों ने क्या पढ़ा

      आप लोगो के जवाब का इंतेजार करुगा

      हटाएं
  28. Saleem tu siya musalman hai ya suni musalman hai? Saleem agar Hamari sarkare itne nikammi na hoti to tu itne bakwas na kar pata. Agar tujhe apane musalman hone par itna phakra hai to kise musalman desh me ja, yaha alp kyo banahua hai bahu banja, mahari roti me se hisa khata hai aur hamari dharam ko galat tharata hai.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. ////////कयामत आने से पहले "दज्जाल" आयेगा जिसकी एक आंख नही होगी वो दुनिया में एक जन्नत और जहन्नुम बनायेगा और अपने आपको खुदा कहेगा....जो उसकी जन्नत में जाना कुबुल करेगा वो अल्लाह की जहन्नुम में जायेगा और जो उसको खुदा मानने से इन्कार करेगा वो उसकी जहन्नुम और अल्लाह् की जन्नत में जायेगा। वो चालीस साल राज करेगा दुनिया पर...///////
    एक आँख नहीं अपितु एक सींग कहा गया है .और शायद वो कोई और नहीं ओसामा बिन लादेन ही है सारे मुस्लिम उसकी बनाई गयी जन्नत में हिं और गैर मुस्लिम उसकी बनाई गयी जहन्नुम में .................४० वर्ष समाप्त होने वाले हैं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. samay samapt nahi hoga lekin tum jaroor 40 saal k ander samapt ho h=jaoge...

      हटाएं
    2. fareed ek baat batao ge tum log kahte ho ki tumhari kuran ek chamtkari book jo aakash se aai hai to ye batao kiske sath aai thi ye book or ek baat tum log kahte ho ki paigamber bhi ji ka janm nahi hua tha vo yaha prakt hue the to ye batao ki unka khatna kisne kiya tha

      हटाएं
  30. ////////कयामत आने से पहले "दज्जाल" आयेगा जिसकी एक आंख नही होगी वो दुनिया में एक जन्नत और जहन्नुम बनायेगा और अपने आपको खुदा कहेगा....जो उसकी जन्नत में जाना कुबुल करेगा वो अल्लाह की जहन्नुम में जायेगा और जो उसको खुदा मानने से इन्कार करेगा वो उसकी जहन्नुम और अल्लाह् की जन्नत में जायेगा। वो चालीस साल राज करेगा दुनिया पर...///////
    एक आँख नहीं अपितु एक सींग कहा गया है .और शायद वो कोई और नहीं ओसामा बिन लादेन ही है सारे मुस्लिम उसकी बनाई गयी जन्नत में हिं और गैर मुस्लिम उसकी बनाई गयी जहन्नुम में .................४० वर्ष समाप्त होने वाले हैं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. काश इस पोस्ट पर समझदार लोग भी आया करें, जब देखो तब वही घिसी पिटी बातें, पूरी दुनिया परेशान है इस शांति के प्रवाह से, आज इस धर्म का अमेरिका क्या लाभ उठा रहा है इसको समझने के लिए बचपन की एक कहानी का ज़िक्र करना समसामयिक होगा, एक जंगल में दो बिल्लियाँ जा रही थी उन्हें एक रोटी (आज की तारीख में पेट्रोल) पडी मिली उसके बटवारे के लिए दोनों में झगडा होने लगा, बात सुलझते ना देख उन्हें एक काजी की जरुरत महसूस हुई संयोग से वहां से एक बन्दर गुजर रहा था दोनों बिल्लियों ने उससे अपनी समस्या बताई उसने एक तराजू का इंतजाम किया और फिर चालाकी के साथ कभी एक टुकडा का कर देता तो ज्यादा वाले को खाकर बराबर करने का ढोंग करता फिर दूसरी को कम कर देता इस तरह वह पूरी रोटी पचा गया दोनों बिल्लियाँ अपना सा मुंह लेकर अपने अपने रास्ते चली गयी, यही हॉल अमेरिका इन मुस्लिम देशों के साथ कर रहा है कभी ईराक पर हमला करता है तुर्की, कुवैत, आदि की मदद लेकर इस बार हमला बोल दिया है लीबिया पर और मदद है खु लीबियाई विद्रोहियों की और क़तर की इस तरह मरेंगे दोनों हाल में मुसलमान ही, जब इस्लाम में हर समस्या का निदान एक किताब करने मैं सक्षम है तो इन समस्यायों को क्यों नहीं सुलझाया जा रहा, दुसरे धर्मों को सीख देने से पहले ये खुद कुछ सीख ले ले. दुनिया में इससे ज्यादा हास्यास्पद बात कुछ हो ही नहीं सकती की दुनिया को समझदारी सिखाने का दावा करनेवाले ये इस्लाम के ठेकेदार अपने ही भाइयों को समझदार नहीं बना पा रहे.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. मेरा मतलब कुछ समझदार मुस्लिम लोगों से है, चाहे वे एक प्रतिशत हों, क्योंकि हिन्दुओं में समझदार आसानी से मिल जाते है. हाँ एकाध प्रतिशत हिदू भी नासमझ हो सकते है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. हजरे अस्वद (काला पत्थर) कि हक़ीक़त

    चूँकि मेरा यह ब्लॉग केवल अंतिम रसूल मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के जीवन के सत्य तथ्यों के बयान पर आधारित है अतः मैं किसी भी अतिरिक्त लेख से परहेज़ करता हूँ एवं कोशिश यह होती है कि आप के जीवन के उन्हीं तथ्वों को बयान करूँ जो सही रवायतों पर आधारित हैं लेकिन कुछ समय पूर्व मैंने हजरे अस्वद एवं काबा के बारे में कुछ नकारात्मक विचार वाले व्यतियों जिनका ज्ञान सरल तथा गलत विचारों एवं सोंच से भरपूर है के लेख तथा उनपर कमेंट्स पढ़ा इन आलेखों में ख़ास तौर से हजरे अस्वद के बारे में जो बकवास कि गई है वोह लेखक के मानसिक बिमारी का उदहारण है काबा तथा हजरे अस्वद का तअल्लुक़ किसी सनातन धर्म अथवा शिव या शिव लिंग से क्या हो सकता है ?दर असल लेखक ने झूटे इतिहास कारों की झूटी बातों पर भरोसा करके जिनका कोई अस्तित्व नहीं है एक अफसाना तराश कर लेख का रूप दे दिया है . ऐसे लोग जिन का ज्ञान सरल तथा कमज़ोर होता है जो सत्य असत्य में अंतर नहीं कर सकते और न ही करने की कोशिश करते हैं झूटी बातों को इतिहास का रूप देनें वाले इतिहासकारो की हर सच्ची झूटी बातों को सत्य समझ कर उसपर ईमान ले आते हैं, ठीक उस अबोध बच्चे की तरह जो दादी माँ की परियों तथा देवों की कथाओं को सच समझ बैठता है और दिनों रात उन्हीं के सपने देखा करता है
    चूँकि हमारे इस्लाम धर्म में किसी भी धर्म का ठठा तथा उस से सम्बंधित किसी चीज़ का मजाक उड़ाना निषेध है इसलिए मैं सनातन अथवा शिव एवं शिवलिंग की सत्यता अथवा असत्यता के बारे में कुछ नहीं कहूंगा हाँ इतना ज़रूर है कि हमारे धर्म के बारे में जो असत्य तथा अन्याय पूर्ण बातें कही जाती हैं उनका उत्तर अवश्य दिया जाए! काबा कि हकीकत के बारे में मैं इस से पूर्व लिख चूका हूँ तथा मौक़ा मिला और अल्लाह ने चाहा तो मक्का फतह करने के बयान के समय लिखूंगा
    अब निम्न में हजरे अस्वद के बारे में जो सत्यता है उसे बयान कर रहा हूँ इस यकीन के साथ कि जितना ब्यान कर रहा हूँ केवल उतना ही सत्य तथा कुरआन (इश्वर के बयान) एवं हदीस (नबी की बातों तथा कार्यों) से साबित है जिन्हें आप सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के प्यारे साथियों रज़ीअल्लाहोअन्हुम ने देखा , सुना ,समझा तथा ब्यान किया है बाक़ी सब बे सर पैर की बातें एवं अफ़साना है , अल्लाह हमें सही सोंच दे
    हजरे अस्वद क्या है ? : हजरे अस्वद काबा के दक्षनी कोने में मौजूद लाली मिला हुआ एक काला पत्थर है जो ज़मीन से डेढ़ मीटर की उंचाई पर काबा की दिवार में लगा हुआ है. यहाँ यह बताते चलें कि शुरू में हजरे अस्वद का आकार तीस सेंटी मीटर के करीब था लेकिन अनेक घटनाओं की वजह से उस में परिवर्तन आता गया तथा अब अनेक साईज़ के केवल आठ छोटे छोटे टुकड़े बचे हैं जिन में सब से बड़ा छोहारे के आकार का है , यह तमाम टुकड़े करीब ढाई फिट के कुतर में जड़े हुए हैं जिनके किनारे चांदी के गोल चक्कर घेरे हुए है. इस की हिफाज़त के लिए सब से पहले जिसने उसे चांदी से गच दिया वो अब्दुल्लाह बिन जुबैर रज़ियल्लाहो अन्हो हैं फिर बाद के राजाओं महाराजाओं ने भी उस में सोने तथा चांदी मढ़वाये सब से अंत में सउदी अरब के राजा शाह सऊद ने इसे खालिस चांदी से मढ़वाया.
    इस्लामी ईतिहास में हजरे अस्वद से एक नेहायत ही दुखद घटना जुडी हुई है, अबू ताहिर क़र्मोती (जिस का सम्बन्ध क्रामेता नामी शीई धर्म से था ) नाम के एक आक्रमणकारी ने सन ३१७ हिजरी में मक्का पर आक्रमण करके मक्का की पवित्रता को भंग कर दिया एवं काबा की बेहुरमती की एवं हाजियों को मार कर ज़मज़म के कुंवे में डाल दिया,तथा ज़मज़म के कुब्बे को गिरा दिया एवं काबा की दिवार को गिरा दिया तथा काबा की चादर को फाड़ कर अपने साथिओं में बाँट दिया एवं हजरे अस्वद को निकाल कर अपने साथ ले गया . बाईस वर्ष बाद सन 339 हिजरी में फिर दोबारा उसको उसके स्थान पर लौटा दिया गया
    more
    more

    http://abdulaleemsalafi.blogspot.com/2010/08/blog-post_7741.html

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. every thing written at quran is found at other religious book and scientifically it is possible that your paigambar can copy and past it to quran becouse it is unbelievable that god tell hole story to paigambar

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. sanatan dharm kabhi bhi khatm na hone bala dharm hai, muslimo ne jehad ka naam lekar jabran dharm change karbaya, chenge na karne par hatya kar di sanatan dharm (hindu) dharm k nast karne ki poori kshish ki lekin kar na sake koshish aaj bhi jaari hai, lekin jis din sanatan (hindu)dharm ne soch liya ki .... tab muslim jaroor nahi bachege. upar ek kament me likha hai ki ek din sabhi log islam dharm apnayege tab pralay ayegi dekha aap logo ne matlab bhagban ne is dharm ko pratibandhit kar rakha hai isko koi bhi nahi apnayega or to or islam jis rah par ja raha hai baha ek din islamik log bhi islam chod doosara dharm apna lege .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. जो लोग भी सब धर्म को एक बताते है वो इस बात का जबाब दे की भगवान और अल्लाह अगर एक है तो एक गाए खाने और एक गाए पूजने की बात क्यों करता है आखिर एक ही इंसान २ विरोधाभाषी बात क्यों ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. i have seen a picture The Message which made after deep discussion with Islamic knowledge persons . the film i have seen is excellent every body must seen it

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. Kya hum Hindu (Satya Sanatan Dharma) k sath hi vaha (Kaba) nahi ja sakte ?
    Yadi ja sakte h, to aapne ye kyo kaha ki islam dharan kar lo ?
    yadi insaniyat ki bat karte ho to hum bhi insan h, manushya h, human being h...
    Aur yadi nahi ja sakte to fir Ye Samanta ki bat kese a gayi Islam me (Jiska aap dava karte h.) ? Ye to sidhi tarah se hi bhedbhav vali baat hui, ki hum ja sakte h tum nahi.
    Aur janna ho to yaha bhi dekh sakte h.... http://www.volker-doormann.org/kaaba23.htm

    Aur dusri bat ""Pooja" ye shabd sabhi dharmo me apni tarah se define h. Hindu, muslim, sikh, Isai sabhi ka apna puja karne ka tarika alag-alag hota h. Lekin sabhi ek sthan vishesh par jakar apne bhagwan, allah, nanakji, isha masih k kisi pratiroop ya unki vishesh cheez ko kisi tarah se mante h. Sabhi log apni shradhdha se jo kam karte h, vahi puja ya ibadat ya pray h. Ab kaba me bhi aap ajan dete the ya use chumte h, ye aapki shradhdha h, aur hum hindu apni shradhdha se mandir me puja karte h. " To aap bhi vaha puja hi kar rahe h.
    Ab aate h aapke murti puja par, - To Saleem ji patthar hindu, muslim, isai sabhi puj rahe h. fark bas itna h, hindu use tarash kar use akar dekar aur bina akar k (Bhagwan Shiv)dono tarah se puj raha h, aur muslims bhi kaba me vahi kar rahe h. Bhale hi aap ye kahe ki aap use chumte h, par vo bhi aapki shradhdha ka hi ek roop h. aap esa sochkar use choom rahe h ki use allah ne chuma tha. hum hindu us patthar me bhi bhagwan ko mante h, aur churches me bhi isha masih hi patthar ki murti hi puji jati.
    Tarika alag-alag h, bas bhav ek hi h.
    Salim ji aapse yahi kahna chahunga ki is tarah k kutarko ka koi matlab nahi h, aur kisi ki bhi shradhdha aur vishvas k kutark karna me uchit nahi samajhta.

    Aap ek scholar lagte h ummid h aapke liye ye link kam ayegi........ http://www.faithfreedom.org/
    Mene bhi khud kuchh samay pahle hi iski ek report padi thi, isiliye iske bare me jyada nahi bata sakta ki ye kis tarah ki site h....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  39. muslimo ko anantkaal tak akla nahi aane wali q ki aise mahol mila jo ek sampoorn gawanro ki bhati yani ek janwer hota hai vahi gund hai me nahi manta inke jhuthe majahab ko na islam naam ki koi chij hai na musalmaan ye sab hamri nakal hai in logo ne hamari copy ki hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  40. muslimo ko anantkaal tak akla nahi aane wali q ki aise mahol mila jo ek sampoorn gawanro ki bhati yani ek janwer hota hai vahi gund hai me nahi manta inke jhuthe majahab ko na islam naam ki koi chij hai na musalmaan ye sab hamri nakal hai in logo ne hamari copy ki hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  41. Rniku soni ji
    pahle nakli our asli me fark karna sikh lo phir
    kahna to shobha dega

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  42. सेकुलर और मुसलमान क्या चाहते हैं ?

    सेकुलर शब्द विदेश से आयातित और सबसे अधिक भ्रामिक शब्द है .इसलिए भारत की किसी भी भाषा में "सेकुलर " के लिए कोई समानार्थी और पर्यायवाची अर्थ नहीं मिलता है .लेकिन कुछ चालाक लोगों ने हिंदी में " सेकुलर " का अर्थ " धर्मनिरपेक्ष " शब्द गढ़ दिया था .यदपि इस शब्द का उल्लेख न तो किसी भी धर्म के ग्रन्थ में मिलता है और न ही इसकी कोई परिभाषा कहीं मिलती है .और फिर जब " सेकुलर "शब्द का विपरीत शब्द " सम्प्रदायवादी "बना दिया गया तो यह शब्द एक ऐसा अमोघ अस्त्र बन गया कि अक्सर जिसका प्रयोग हिन्दुओं प्रताड़ित उनको अपराधी साबित करने ,उन पर पाबंदियां लगाने के लिए किया जाने लगा .
    इसका परिणाम यह हुआ कि खुद को सेकुलर बताने वाला बड़े से बड़ा अपराधी , और भ्रष्टाचारी लोगों की दृष्टि में दूध का धुला बन गया .और मोदी जैसे हजारों देशभक्त अपराधी लगने लगे .बड़े आश्चर्य की बात तो यह है कि इमाम बुखारी जैसे अनेकों कट्टर मुस्लिम नेता भी " सेकुलरिज्म " की वकालत करने लगे .सेकुलरों और मुसलमानों के इस नापाक गठबंधन का रहस्य समझने के लिए कुरान का सहारा लेना जरुरी है ,

    1-सेकुलरों के लक्षण
    यद्यपि न तो अरबी में सेकुलर के लिए कोई शब्द है , और न कुरान में सेकुलर लोगों का उल्लेख है , लेकिन कुरान में सेकुलरों के जो लक्षण बताये हैं वह वर्त्तमान सेकुलर नेताओं पर सटीक बैठते है ,
    "जब यह लोग मुसलमानों के साथ मिलते हैं , तो उन से कहते है कि हम भी ईमान वाले हैं . और जब एकांत में अपने नेताओं से मिलते हैं ,तो उन से कहते हैं कि हम तो तुम्हारे साथ है .हम तो मुसलमानों से मजाक करते हैं " सूरा -बकरा 2 :14
    "हे नबी यह मुनाफिक ( सेकुलर ) जब तुम्हारे पास आते हैं ,तो कहते हैं कि हम मानते हैं कि आप अल्लह के रसूल हो . लेकिन यह लोग सभी के सभी झूठे हैं "
    सूरा -अल मुनाफिकून 63 :1
    " यह लोग कसमें खाते हैं कि हम तो तुम्हीं में से हैं .जबकि वह किसी के साथ नहीं होते हैं " सूरा -तौबा 9 :56
    कुरान में बताये यह सभी लक्षण उन सेकुलरों में मिलते हैं , जिनको कुरान में " मुनाफिक مُنافق" यानि Hypocretes "और हम दोगला कह सकते हैं .ऐसे लोग किसी के मित्र नहीं होते .
    2-मुसलमानों की नीति
    मुसलमान अपने स्वार्थ के लिए सेकुलरों का सहयोग करते है ,लेकिन कुरान के इन आदेशों का पालन करते हैं , जैसे ,'
    " तुम अपने धर्म के अनुयाइयों के अलावा किसी किसी पर भी विश्वास नहीं करो
    "सूरा - आले इमरान 3 :73
    " तुम अपने लोगों के आलावा किसी को भी अपनी गुप्त योजनाओं के बारे में सच नहीं बताओ " सूरा -आले इमरान 3 : 318
    " समझ लो कि यह सब काफ़िर एक दूसरे के संरक्षक और मित्र हैं "सूरा-अल अनफाल 8 :73
    ( अर्थात सभी काफ़िर एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं )
    " तुम इन काफिरों और मुनाफिकों का आदेश कभी नहीं मानना " सूरा अल अहजाब 33 :1
    "तुम इन दोगली बातें बोलने वालों का कहना नहीं मानना .यह तो चाहते ही कि तुम किसी भी तरह से अपने इरादों में ढीले पड़ जाओ .और उनकी बातों में फंस जाओ " सूरा -अल कलम 68 : 8 -9


    " तुम कभी दोगले लोगों के बहकावे में नहीं आना " सूरा -अद दहर 76 :24

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  43. 3-मुसलमानों का ढोंग
    जो मुस्लिम नेता सेकुलर होने का पाखंड करते हैं ,और यह कहते हैं कि हम तो सभी लोगों को समान मानते हैं . और सबकी भलाई चाहते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते होंगे कि मस्जिदों में नमाज के बाद ऐसी दुआएं मांगी जाती है , जैसे ,
    "ईमान वालों के लिए उचित नहीं है कि वे मुशरिकों ( मूर्ति पूजकों ) की भलाई के लिए क्षमा ,प्रार्थना करें , चाहे वह उनके मित्र या रिश्तेदार ही क्यों नहीं हों .क्योंकि यह भड़कती हुई आग वाली जहन्नम में जाने वाले हैं " सूरा -तौबा 9 :113


    "
    مَا كَانَ لِلنَّبِيِّ وَالَّذِينَ آمَنُوا أَنْ يَسْتَغْفِرُوا لِلْمُشْرِكِينَ وَلَوْ كَانُوا أُوْلِي قُرْبَى مِنْ بَعْدِ مَا تَبَيَّنَ لَهُمْ أَنَّهُمْ أَصْحَابُ الْجَحِيمِ " Sura Taubah -. (9:113)


    "हमें काफ़िरों के मुक़ाबिले में नुसरत अता फ़रमा।"सूरा - बकरा 2 :250


    " وَانصُرْنَا عَلَى الْقَوْمِ الْكَافِرِينَ
    अब काफ़िरों के मुक़ाबिले में हमारी मदद फ़रमा।"सूरा - बकरा 2 :286


    "فَانصُرْنَا عَلَى الْقَوْمِ الْكَافِرِينَ"


    "काफ़िरों के मुक़ाबिले में हमारी मदद फ़रमा। "आलि इमरान 3: 147


    " وانصُرْنَا عَلَى الْقَوْمِ الْكَافِرِينَ "

    यह और ऐसी कुरानी दुआएं नमाज के साथ और बाद में की जाती हैं ,इन से मुसलमानों के इरादों का पता चलता है .

    4-मुसलमानों का लक्ष्य

    आज सेकुलर और मुसलमान इसलिए साथ है ,क्योंकि सेकुलर मुसलमानों के वोटों से अपनी सत्ता बचाए रखना चाहते हैं . और मुसलमान सेकुलरों के सहारे इस देश में इस्लामी राज्य की स्थापना करना चाहते है .जैसा कि कुरान में कहा है .
    " तुम गैर मुस्लिमों से तब तक युद्ध करते रहो , जब तक उनका सफाया न हो जाये , और अल्लाह का धर्म ही बाकी रह जाये "
    सूरा -बकरा 2 :193


    इन तथ्यों से सिद्ध होता है कि मुसलमान सेकुलरों का साथ तबतक देते रहेंगे जब तक उनकी संख्या इतनी कि अधिकांश प्रान्तों में उनकी सरकारें बन जाएँ .और यदि ऐसा हो गया तो मुसलमान इन सेकुलरों को भी नहीं छोड़ेंगे .
    याद रखिये जिन मुसलमान बादशाहों ने हुमूकत के लिए अपने बाप , और मुहम्मद के परिवार के लोगों जिन्दा नहीं छोड़ा वह मुनाफिक सेकुलर लोगों को कैसे जिन्दा रहने देंगे ?

    http://wikiislam.net/wiki/Qur%27an,_Hadith_and_Scholars:Friendship_with_Non-Muslims

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  44. Islam Lies

    Islam..a Beast
    They start accumulating in countries and then start terrorizing it with gangs of rapists, violence and civil disruption.

    They are possessed, demon possessed. They seek to spread fear and violence, they are pawns of the devil who feeds off of the fear and suffering they create for power.

    Just as their leader, Mohammad, they use "God" as an excuse to prey on innocent people. Mohammad was a robber and a thief, his followers are no different.

    It is not the Most High God they serve, but Satan.

    Don't you think the Arabs make it hard for themselves to garner sympathy from the western civilized nations when all they do is preach the death and destruction of those very nations?
    See the Koran Film: http://www.youtube.com/watch?v=bCrCsTMokTU&feature=related

    Their religion is one of hate, not love. The Talmudic Jews preach that anyone not a (Kazaar) Jew as they are should be killed. Should we let the two races alone to just go at it amongst themselves and kill each other off?

    Every religion thinks they are the only ones serving the true God and going to heaven. The Jews, the Moslems, the Catholics, the Protestants. God does not live in a book, He lives in the hearts of those who truly love and worship Him. Religions are used to manipulate and control mankind to further political agendas.

    Get out of RELIGION and get into a RELATIONSHIP with the One true God. Ask HIM to teach you the truth in ALL things.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  45. There are 5 Beasts Coming: An Arab beast, an Aramean Beast, an Aryan Beast, a Black Beast, and a Female Beast.



    Muslim activists in the West have been using the tactic of claiming that they worship the same god as the Christians in order to gain legitimacy and acceptance. They have been using the name "God" in place of "Allah" in many translations of the Qur'an.

    Muslims DO NOT pray to the same God (Yahweh/ Jehovah of Holy Scripture) of Christians and Jews! Yahweh is transliterated from the Hebrew YHVH.

    Before Muhammad the Arabs had 365 gods - one for each day of the year. Muhammad picked Allah (the Arab moon god).



    They claim the founder of Islam is a prophet named Muhammad...however Muhammad himself says he is not a prophet and has never personally heard from God...in fact Muhammad who heard voices thought himself it was from evil spirits....his wife encouraged him to change his mind and claim God had spoken to him...

    Muhammad was a pedophile, having sexual relations with a 6 year old and 9 year old girl.



    Muhammad performed no miracles, spoke no prophecies,
    and died like all mortal men



    Islam claims the Prophet Muhammad was foretold in the Torah and Bible:

    The coming of Prophet Muhammad had been foretold in the Torah. God had said to Moses: "I will raise them up a Prophet from among their brethren, like unto thee, and I will put My words in his mouth; and he shall speak to them all that I shall command him" Deuteronomy 18:18

    This was fulfilled in John 1:45, "We have found him, of whom Moses in the law, and the prophets, did write, Jesus of Nazareth, the son of Joseph." Nope..not Muhammad! It was Jesus of Nazareth!

    ooops...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  46. There are more than 100 verses in the Qur'an (Koran) advocating the use of violence to spread Islam. There are exactly 123 verses in the Qur'an about killing and fighting.


    Qur'an 9:5, known as "the verse of the sword," declares, "Fight and slay the pagans wherever you find them, and seize them, beleaguer them, and lie in wait for them in every stratagem."
    The Koran was written 500 years after the Bible and Muhammad couldn't get his history straight? Who was talking to his head? Certainly wasn't the Most High God.

    The Moslems consider the Qur’an as uncorrupted. Yet it's historical and scientific blunders are numerous..

    Islam teaches that Hagar was Abraham's first wife..the Torah says Hagar was Sarah's handmaiden, or bondwoman.....Hagar was never Abraham's wife..she was a maid...a servant...who had a child for Abraham because Sarah was barren and couldn't conceive. Eventually Sarah did conceive and Hagar was cast into the desert with Ishmael her son.

    The Muslims misquote the Bible claiming the "freewoman" wife of Abraham was Hagar when it was Sarah. Hagar was the bondwoman, servant of Sarah. In other words, Sarah was Abraham's wife, Hagar was his mistress. When Isaac was born, Ishmael and Hagar were cast away from Abraham and sent into the desert away from him and Sarah.

    Ishmael was promised to be a great nation, and today he is, but the blessings of Abraham and Yahweh's covenant went through Isaac and his seedline. Biblically speaking, the land of Israel rightfully belongs to the Jews because God promised and gave the land to Abraham, the Father of the Jews, and renewed this promise or covenant to Abraham's son Isaac and to Isaac's son Jacob (later renamed Israel by God) who begat twelve sons from whom the twelve tribes of Israel was established as a nation as described in Genesis 12:1-3; 17:7,8 and 17:19-21.

    The state of Israel is a constant reminder to the world that the God of Abraham, Isaac, and Jacob is alive and that one billion Arabs can't keep them from possessing their promised land.

    Was Jesus the ONLY Begotten Son of God? Yes. "For God so loved the world that He gave HIS ONLY Begotten Son, that whosoever believeth IN HIM should not perish, but have everlasting life - John 3:16...not through Muhammad, it was Jesus, Yahushua.

    Did Jesus die on the cross? Yes. Matthew chapters 27&28 talk about his death and resurrection. Jesus defeated death when he arose from the grave 3 days later. Muhammad's tomb still holds his body, Jesus' does not! His tomb is empty!

    Islam misquotes and teaches that Muhammad was prophesied..The Bible says,

    "But the Comforter, which is the Holy Ghost, whom the Father will send in my name, he shall teach you all things, and bring all things to your remembrance, whatsoever I have said unto you" (John 14:26). Not Muhammad..the Holy Ghost..Holy Spirit..

    "For there is one God, and one mediator between God and men, the man Christ Jesus" (I Tim. 2:5).

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  47. Historical errors in the Qur'an:

    The Historical, Scientific, simple mathematics and theological contradictions in the Qur'an are too numerous to list. Remember, since Muhammad already proclaimed the Jewish Torah/Christian Old Testament (Taurat) as correct in Qur'an 5:46/47 and 43:63 then the following gross errors that differ with the Torah are inexcusable. These errors their selves scream out the Qur'an itself is entirely false. Here are just a few:

    In Sura 2:241 Muhammad confuses the persons of Saul and Gideon.

    In Sura 2:55-60 the Israelites were said to be "a scanty band" vastly inferior to the Egyptians. But in Exodus 1:7-10 the Egyptian king said to his people that the Israelites had become "more and mightier than we".

    The Koran confused the sister of Moses (Miriam) with Mary, the mother of Jesus. In Hebrew, Miriam and Mary are the same names.

    How many angels were talking to Mary? When the Qur'an speaks about the annunciation of the birth of Jesus to the virgin Mary, Sura 3:42,45 speaks about (several) angels while it is only one in Sura 19:17-21. The Christian Bible clearly indicated one angel; "In the sixth month, the angel Gabriel was sent by God to a town in Galilee called Nazareth," Luke 1:26

    Muhammad taught that Mary the mother of Jesus was the sister of Aaron and Moses - who lived 1,500 years earlier.

    Do you remember the evil Persian Haman who conspired to kill all the Jews during the time of Esther in the Babylonian captivity. In the Koran, Muhammad incorrectly taught that this wicked man Haman was the prime minister of the Egyptian Pharaoh. Throughout the Quran--Nimrod and Abraham, Haman and Moses, Mary and Aaron, the tower of Babel and Pharaoh were all pictured as living and working together. Moses and the flood are also incorrectly found together. Muhammad thought these all happened at the same time.

    What about Noah's son? According to Sura 21:76, Noah and his family is saved from the flood, and Sura 37:77 confirms that his seed survived. But Sura 11:42-43 reports that Noah's son drowns.

    Sura 7:136, 7:59 say Noah's flood took place in Moses' day. Did anyone tell Moses that?

    Sura 14:37, says Abraham lived in the valley of Mecca. The Bible says he lived in Hebron, Israel. (Genesis 13:18, 23:2, 35:27)

    Sura 7:54, 10:3, 11:7, and 25:59 clearly state that God created "the heavens and the earth" in six days. But in 41:9-12 the detailed description of the creation procedure adds up to eight days.

    Suras 21:51-71; 37:97,98, says that Abraham was thrown into a fire [by Nimrod]. Nimrod and Abraham did not live at the same time. Muhammad was always mixing people together in the Qur'an who did not live at the same time. The Bible tells us Nimrod lived many centuries before Abraham.

    Sura 6:74, says Abraham (called millata-Ibrahim in the Qur'an) father's name was Azar. The Bible says it was Terah (Genesis 11:27).

    Sura 12:21ff, says the man who bought Joseph was named Aziz. The Bible says it was Potiphar.

    Sura 37:100-112, says Abraham went to sacrifice Ishmael. The Bible says it was Issac.

    Sura 5:73-75,116, Muhammad mistakenly thought the Christian Trinity was 3 gods: the Father, the Mother (Mary), and the Son (Jesus).

    Sura 28:8-9, says is was Pharaoh's wife who adopted Moses. The Bible says it was Pharaoh's daughter.

    Sura 9:10, incorrectly says Zacharias could not speak for only three days.

    Sura 20:87, 95, says the Jews made the golden calf in the wilderness at the suggestion of Samaritans. There were no Samaritans at that time

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  48. The message of this video targets people from all religious backgrounds therefore representatives of the 4 major religions - Krishna, Muhammad, the Buddha and Jesus are starring as "those who knew the Truth". However, not necessarily all 4 are such.

    The film is available in one file at megaupload:
    http://www.megaupload.com/?d=8LFVRL79

    English subtitles for part 1/2 - SRT file:
    http://sites.google.com/site/triplexity/1/Religion-P1.srt?attredirects=0&d=1

    Religion 1/6
    Music : Sulatus
    http://www.jamendo.com/en/artist/sulatus

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  49. http://www.volker-doormann.org/kaaba23.htm

    see the haram symbol and see how the construction matches with shiva temple a scientific region

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  50. *****हम मुस्लिम विरोधी नहीं हैं*****
    ..."बढती धार्मिक वैमनष्यता के कारण और निवारण के उपाय "...
    ...हर बुराई का विरोध और हर अच्छाई का समर्थन करने का साहस है हममें
    1.हम अपने सच्चे मुस्लिम को रोजा अफ्तार की दावत भी देते आये हैं
    2. ईद और दीपावल
    ी की मुबारकबाद भी लेते देते हैं हम लोग
    3. आपस के सुख दुःख भी बाँटते हैं हम लोग
    .........................................पर फिर भी ...कुछ सवाल हैं .
    .... जो उठ खड़े होते है ... और परेशान करते हैं दिमाग को
    ........... की कहीं हम गलत तो नहीं
    प्लीज मदद कीजिए ........ भाईचारे को बचाने के लिए
    ..... जो भी बुद्धिमान जबाब दे सकें .... हम उनके अहसानमंद रहेंगे
    ***सवाल***???
    ..........
    1.क्या मुसलमान भी हिन्दू को भाई समझता है ...???
    >> ..."काफिर"... का अर्थ स्पस्ट करें.
    >> देवी,देवताओं के बारे में अपनी राय दें.
    >> मंदिर की घंटी,शंख,घड़ियाल से आपत्ति क्यों...???
    >>मुस्लिमों बहुल क्षेत्रों में भाईचारा क्यों नहीं...???
    >>धर्म आधारित बटवारे के बाद भी अपना भाई मानते हुए अपना सारा देश ..."सांझा"...करने वाले ..."भाई के भगवान"... को भगवान नहीं मानते हुए उसीकी जन्मभूमि पर अपना अधिकार जाताना किस भाईचारे की मिसाल है.
    >> अरे बटवारे के बाद जब देश ही त्यागने की नोबत थी तब हिन्दू ने भाईचारा मानते हुए अपने पूरे देश पर सामान अधिकार दे दिया उस भाई को भाईचारे की मिसाल देने के लिए रामजन्मभूमि क्यों नहीं त्याग देते मुस्लिम.
    ...........
    2.मुस्लिम की निगाह में हिन्दू को समानता का अधिकार क्यों नहीं...???
    >> भारत में शिक्षक,ग्रामसेवक से लेकर ..."राष्ट्रपति"... तक मुस्लिम रहे हैं ...मुस्लिम देशो में हिन्दू को यह अधिकार मिल पायेगा क्या...??
    >> मुस्लिम हित के लिए हिंदू राज नेता हो या हिन्दू समाजसेवी या हिन्दू साधू संत ...... सदा ही संवेदनशील रहे हैं ........... पर हिन्दू हित के लिए संवेदनशीलता का कोई उदाहरण मिल पायेगा मुस्लिमों से
    >> मुस्लिमों पर अत्याचार के विरुद्ध सदा ही मुस्लिमों के साथ हिंदुओं ने विरोध के स्वर मुखर किये हैं घटना बड़ी हो या छोटी से छोटी .... क्यों हिन्दुओ पर अत्याचार के विरुद्ध नहीं बोल पाते मुस्लिम .... कभी भी
    >> कभी भी किसी बड़े ओहदे पर बैठे मुस्लिम शख्स ने मुस्लिमों के द्वारा हिन्दुओ पर किये गए जघन्य अपराधों पर विरोध ब्यक्त कराया है क्या...???
    >> हिन्दुओ की प्रताडना के विरुद्ध मुस्लिम संगठन आगे आये कहीं भी, कभी भी...... नहीं तो क्यों नहीं ......
    कहाँ होता है ..."भाईचारा"... तब
    ..........
    3.भारत सहित विश्व में मुस्लिमों की बडती संख्या .... और इसके विरुद्ध ... मुस्लिम बहुल क्षेत्रो में हिंदुओं की घटती संख्या ..."भारत या अन्य मुस्लिम देश"... ऐसा क्यों बता सकते हैं इसके कारण ...???
    ..........
    ....कारण तो और भी बहुत हैं जो विचार योग्य हैं यदि वैमनष्यता खत्म करना है भविष्य को सुरक्षित रखना है तो सभी धार्मिक नेताओं को,राजनेताओं को ..."तुस्टीकरण"... की नीति त्यागना होगा अन्यथा परिणाम भुगतने को तैयार रहना होगा."

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  51. अधिकांश गैर मुस्लिम लोगों को अल्लाह और इस्लाम के बारे में पुरी जानकारी नहीं होती है .लोगों को अल्लाह और इस्लाम के बारे में वही जानकारी होती है ,जो वह फिल्मों और टी वी चेनलों में देखते हैं.चालाक मुस्लिम ब्लोगर अपने ब्लोगों में इस्लाम के बारे में प्रचारित करते है .इस झूठे प्रचार के कारण कुछ लोग खुद को सेकुलर मानने लगे हैं.और अल्लाह को ईश्वर कहने लगे हैं .इन लोगों को अल्लाह के बारे में न तो यह पता है
    की अल्लाह का कैसा स्वभाव है ,और उसे क्या पसंद है .और वह किस चीज से नफ़रत करता है .या किस बात को नापसंद करता है .हम आपको अल्लाह की पसंद और नापसंद की कुछ बातें संक्षिप्त में दे रहे है -

    अल्लाह को पसंद है ----

    1 मस्जिदें बनवाना
    2 लोगों को डराना
    3 अपनी तारीफ़ करवाना
    4 मुसलामनों के मुंह की सडांध
    5 लोगों को बीमार करना
    6 मर्दों के गर्दन तक लटके बाल
    7 मुसलमानों के गंदे पैर
    8 लड़ाई ,जिहाद
    9 लूट का माल

    अल्लाह को नापसंद है ----

    1 संगीत ,वाद्य
    2 सवाल करना
    3 औरतों का सम्भोग से इंकार
    4 यहूदी ,ईसाई
    5 शिक्षा ,पढाई
    6 खेती करना
    7 गैर मुस्लिमों से दोस्ती .करना .


    अब आपको इसके बारे में प्रमाणिक हदीसों और कुरआन से सबूत दिए जा रहे हैं ------

    1 -मस्जिदें बनवाना ---
    "रसूल ने कहा कि जो व्यक्ति जितनी भी मस्जिदें बनवायेगा,अल्लाह उसके लिए जन्नत उतने ही मकान बनवा देगा " बुखारी -जिल्द 1 किताब 8हदीस 441.

    "शुक्रवार के दिन फ़रिश्ते मस्जिद के दरवाजे पर आ जाते हैं ,और लोगों के आने का इंतजार करते है.और मस्जिद बनवाने वाले को दुआ देते रहते हैं .इस से अल्लाह खुश होता है."बुखारी -जिल्द 4 किताब 54 हदीस 433 .

    "अल्लाह को बाजारों से नफ़रत ,और मस्जिदें पसंद है ".मुस्लिम -किताब 4 हदीस 1416.


    2 -लोगों को डराना ---
    "अबू मूसा ने कहा कि ,रसूल ने बताया कि अल्लाह चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण इसलिए करता है कि लोग डर जाएँ ,और डर के मारे अल्लाह को पुकारने लगें "बुखारी -जिल्द 2 किताब 18 हदीस 167.

    3 -अपनी तारीफ़ करवाना ---
    "अबू हुरेरा ने कहा कि रसूल ने कहा कि अल्लाह अपनी तारीफ़ सुन कर खुश होता है .अल्लाह अपनी जीतनी इज्जत और तारीफ़ खुद करता है ,उतनी कोई दूसरा नहीं कर सकता .अल्लाह को अपनी तारीफ़ पसंद है"मुस्लिम -किताब 37 हदीस 6647 और 6648.

    4 -मुंह की बदबू और सड़ांध ---
    "अबू हुरेरा ने कहा कि , रसूल ने कहा कि अल्लाह को रोजेदार मुसलमानों के मुंह से निकलने वाली बदबू और सडांध बहुत पसंद है .अल्लाह को उस बदबू में मुश्क की खुश्बू आती है."बुखारी -जिल्द 7 किताब 72 हदीस 811.

    5 -लोगों को बीमार कर देना ---
    "रसूल ने कहा कि अल्लाह अपने मुस्लिम बन्दों को ,कोढी,अंधा और गंजा कर देता है .और उनको बीमार कर देता है .ऐसा करके अल्लाह ईमानवालों का इम्तिहान लेता है "मुस्लिम -किताब 42 हदीस 7071 और अबू दौउद-जिल्द 2 किताब 20 हदीस 2083.

    ..................

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  52. 6 -मर्दों के लम्बे बाल ---
    "इब्ने अब्बास ने कहा कि ,रसूल ने बताया कि,अल्लाह को रसूलके गर्दन से नीचे लटके हुए बाल बहुत पसंद है ,क्योंकि अहले किताब (यहूदी ,ईसाई )नेनबियों के ऐसे ही बाल थे .और यह देखकर रसूल ने भी वैसे बाल रख लिए "बुखारी -जिल्द 4 किताब 56 हदीस 758.

    7 -गंदे पैर ---
    "रसूल ने कहा कि अगर किसी जिहादी के पैर जिहाद के कारण मिट्टी और धूल से घुटनों तक सने होंगे ,तो अल्लाह ऐसे पैरों को पसंद करेगा ,नाकि धुले हुए साफ पैरों को"बुखारी -जिल्द 2 किताब 13 हदीस 30.

    8 -लड़ाई करना और जिहाद करना ---

    "अबू मूसा ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि जो मुसलमान हमेशा अल्लाह के नाम पर लड़ता रहता है ,और जिहाद करता है ,तो अल्लाह उसे सबसे अधिक पसंद करता है .और जन्नत में उसे ऊंचा दर्जा मिलेगा "बुखारी-जिल्द 1 किताब 3हदीस 125.

    9 -लूट का माल ---
    "जुबेरिया बिन कदम ने कहा कि उस समय मदीना के लोग अक्सर जिहाद करते थे,और और लोगों से जबरन जकात और जजिया वसूलते थे .रसूल कहते थे कि इस से अल्लाह खुश होता है"बुखारी-जिल्द 4 किताब 53 हदीस 388.
    "अबू हुरेरा ने कहा कि रसूल लूटके माल से धनवान हो गए थे .उनके पास कई मर्द और औरतें गुलाम थे..तसूल कहते थे कि मुझे धनवान देखना अल्लाह को पसंद है,बुखारी -जिल्द 3 किताब 37 हदीस 495.

    अब आपको बताते हैं कि अल्लाह को कौन सी बातें नापसंद हैं ,या किस बात से नाराज होता है.देखिये ----

    1 -संगीत और वाद्य ---
    "रसूल ने कहा कि,घंटी बजाना ,और संगीत के वाद्य शितन के काम हैं,और अल्लाह को नापसंद हैं.मुस्लिम -किताब 24 हदीस 5279."अबू मालिक ने कहा कि रसूल ने कहा कि ,जो व्यक्ति संगीत का आनद लेगा ,और बाजे बजाएगा ,और रेशम के कपडे पहनेगा ,अल्लाह उसे बर्बाद कर देगा .और उसे सूअर और बन्दर बना देगा.बुखारी -जिल्द 7 किताब 69 हदीस 49.

    2 -सवाल करना --
    "रसूल ने कहा कि जो भी व्यक्ति अल्लाह के बारे में सवाल करेगा तो वह शैतान के प्रभाव में है,अल्लाह को उसके बारे में सवाल करना पसंद नहीं है .बुखारी -जिल्द 4 किताब 54 हदीस 496 और मुस्लिम -किताब1 हदीस 242 -243.

    3 -औरतों का सम्भोग से इन्कार ---
    "अबू हुरेरा ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,अगर कोई औरत अपने पति के कहने पर तुरंत सम्भोग के लिए तैयार नहीं होती ,तो उस से अल्लाह नाराज हो जाताहै .और जब तक वह सम्भोग नही करवा लेती,अल्लाह उसे धिक्कार करता है .मुस्लिम -किताब 8 हदीस 3367 -3368.
    "रसूल ने कहा कि,औरत को पति के कहने पर सब काम छोड़कर तुरंत सम्भोग के लिए टायर हो जाना चाहिए .यदि वह पति के साथ ऊंट के हौदे में हो तो उसी पर सम्भोग करावा लेना चाहिए.वरना अल्लाह नाराज होगा.इब्ने माजाकिताब 3 हदीस 1853 -1855.
    4 -यहूदी और ईसाई ---
    "अलाह को यहूदियों और ईसाइयों से इतनी नफ़रत हुई कि ,उन्हें बन्दर और सूअर बना दिया .कुरआन.सूरा मायदा 5;60.

    "सलीम बिन अब्दुलाह ने कहा कि,रसूल ने कहा ,अगर यहूदी और ईसाई दुआ करेंगे तो अल्लाह उसका आधा सवाब मुसलमानों को दे देगा .अल्लाहको वे लोग पसंद नहीं हैं.बुखारी -जिल्द 1 किताब 10 हदीस 352.

    5 -शिक्षा और पढ़ाई ---

    "अता बिन यासर की रवायत है कि,अल्लाह को शिक्षा से नफ़रत है ,वह अशिक्षा और पसंद करता है.बुखारी -जिल्द 3 किताब 34 हदीस 355.
    "मूसा बिन इस्माइल अल बहरीने कहा कि,रसूल ने कहा कि अल्लाह अन पढों को इसलिए पसंद करता है,क्योंकि उसका रसूल भी खुद को अनपढ़ कहता है.अल्लाह यह नहीं चाहता कि कोई रसूल से अधिक पढ़ जाये.मुस्लिम -किताब 1 हदीस 264.

    6 -खेती करना ---
    "अबू उमामा ने कहा कि रसूल ने कहा कि,अल्लाह को खेती की जगह जिहाद,और औजारों कि जगह हथियार ज्यादा पसंद हैं .जो खेती को छोड़कर जिहाद करेगा अल्लाह उसे पसंद करेगा.बुखारी -जिल्द 3 किताब 39 हदीस 514.

    7-गैर मुस्लिमों से दोस्ती ---
    "ईमान वालों को चाहिए कि वह काफिरों को दोस्त न बनायें.कुरआन .सूरा आले इमरान 3 :28
    अब इस पूरे विवरण को पढ़ने के बाद आपको अल्लाह की पसंद और नापसंद के बारे में अच्छी तरह से पता चल गया होगा ..यह लेख वह लोग जरुर पढ़ें जो सेकुलर हैं .और अल्लाह को ईश्वर मानाने भूल कर रहे हैं.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  53. Vishal Raj

    परम पिता परमेश्वर एक रास्ते अनेक फिर क्यों विवाद |
    परम पिता परमेश्वर खुदा,अल्लाह,गोड सभी तो परमात्मा की ओर पहुचने के रास्ते हैं,फिर यह मजहब,धर्म को लेकर विवाद क्यों ?, हिन्दू धर्म में साकार,निराकार,और भिन्न देवी देवता हैं,जिसकी परमात्मा की ओर पहुचने की रूचि है,वोह उसी प्रकार से उस सर्वशक्तिमान की ओर पहुचने के लिए प्र्यतानशील है,हिन्दू धर्म में साकार स्वरूप की भक्ति करने वालों का विवाद निराकार भ
    क्ति करने वालों से श्रेष्ठता को लेकर विवाद होता रहता है,और साकार स्वरुप की भक्ति करने वालों में भी अपने,अपने स्वरुप के ईश्वर को लेकर विवाद होता रहता है,और नवधा भक्ति को लेकर विवाद होता रहता है कि कर्म योग,भक्ति योग,ध्यान योग इत्यादि में इस प्रकार की भक्ति श्रेष्ठ है या उस प्रकार की भक्ति श्रेष्ठ है, फिर पन्थो को लेकर विवाद कबीरपंथ,जैन पंथ,बौध धर्म इत्यादि में यह पंथ श्रेष्ठ है या वोह पंथ|
    सब में ईश्वर का अंश अविनाशी आत्मा है,और फिर क्यों ब्राहमण,क्षत्रिय,वैश्यों और शुद्र में क्यों यह जाती सबसे ऊपर है,या वोह जाती निम्न है, जब सब में ईश्वर का अंश आत्मा है,तो इन जातियों में भेद भाव तो होना ही नहीं चाहिए,सब जातियां बराबर हैं
    संत कबीर दास के अनुसार तो "हरी को जो भजे हरी का होई" |
    इसलाम को लिया जाये तो वहाँ शिया और सुन्नी में मतभेद समझ में नहीं आता है ऐसा क्यों है ?हैं तो आखिर दोनों मुस्लिम संप्रदाय,एक पहले से शिया जो मुस्लिम संप्रदाय में आतें हैं,और सुन्नी जो कि सुन कर मुस्लमान हुएं हैं,क्या इनके लिए खुदा,अल्लाह पीर,पैगम्बर जुदा है ? यदि खुदा,अल्लाह पैगम्बर,पीर जुदा नहीं हैं,तो आपस में क्यों एक मुस्लिम सम्प्द्रय एक दुसरे को अपने को बेहतर क्यों बतातें हैं ?
    इसी प्रकार अगर इसाई धर्म को मानने वोलों में भी,मतभेद क्यों ? इस इसाई धर्म की भी अनेक शाखाएँ हैं, केथोलिक,
    प्रोटेस्टेंट,एडवेनटिस्ट,इत्यादि क्या इन इसाई धर्म को मानने वालों के लिए जिसयस अलग है,या खुदा कहें या गोड कहें क्या वोह अलग है,फिर आपस में यह कहना कि यह रास्ता अच्छा है,या वोह रास्ता अच्छा है,कहाँ तक ठीक है ?|
    सबकी रगों में खून का रंग एक,सब के लिए धुप,छाओं,गर्मी,सर्दी बरसात एक,ईश्वर,भगवान,गोड,खुदा ने तो कोई पक्षपात नहीं किया,फिर कब समझोगे,सब इंसान एक हैं,परम पिता,परमेश्वर,गोड,खुदा के सब बच्चे हैं,धर्म तो उस सर्वशक्तिमान के पहुचने की,अलग,अलग सिड़ी है,जो परमेश्वर से मिलाने के जरिये हैं,परन्तु आपस में,मतभेद,बैर,लड़ाई,झगड़ा धर्म को लेकर और इंसानियत को भूल जाने पर,यह सिड़ी कहीं भी नहीं ले जाएगी |
    अंत में इस कहानी से करता हूँ, एक महावत के पॉँच अंधे बेटे थे,एक दिन महावत ने अपने बेटों से कहा,इस हाथी को स्नान करा दो,उसके अंधे बेटे लग गये उस महावत के हाथी को नहलाने में,जब उसके बेटे हाथी को नेहला चुके तो उस महावत के अंधे बेटों में हाथी को लेकर झगड़ा होने लगा हाथी ऐसा,हाथी वैसा है,जिसके हाथ में हाथी के पैर आये उसने कहा हाथी चार खम्बो जैसा है,जिसके हाथ में हाथी के कान आये उसने कहा हाथी,केले के बड़े,बड़े पत्तों की तरह है, जिसके हाथ में हाथी की सूंड आयी उसने कहा,हाथी एक उस तरह के खम्बे की तरह है जो नीचे से पतला होकर जैसे,जैसे ऊपर जाओ तो मोटा होता जाता है,जिसके हाथ में हाथी के दांत आये वोह बोला हाथी तो हड्डियों से बना हुआ है,जिसके हाथ में हाथी की पूँछ आयी वोह बोला हाथी एक रस्सी की तरह है,जो स्वर्ग,जन्नत,हेवन से लटक रही है, क्योंकि हाथी की पूँछ ऊंचाई पर थी इसलिए उसने ऐसा कहा |
    महावत ने जब उनको झगड़ा करते हुए देखा तो उसने कहा तुम सब आंशिक रूप से ठीक कह रहे हो, हाथी इन सब वस्तुओं का सम्मिलित रूप है,तो भाई बहनों, हाथी को उन महावत के बेटो ने अलग,अलग तरह से पहचाना तो यह अलग,अलग तरह के धर्म,सम्पर्दाय अलग रास्ते हैं,उस परम पिता परमेश्वर की ओर पहुचने के,जैसे नदी सागर में मिलने के बाद अपना सवरूप भूल जाती है, उस नदी में बहुत,वेग होता है,इठलाती है,अलग,अलग नदियाँ होतीं हैं, और जब उस शांत सागर में मिलती हैं,तो अपना स्वरुप भूल जातीं हैं,ऐसे ही जब मानव परमात्मा में लीन हो जाता है,तो इन धर्म,सम्पर्दय इत्यादि का कोई महत्व नहीं रह जाता है, और जब आत्मा जो की परमात्मा का स्वरूप है,उसी में लीन हो जाती है,तो मानव निर्मित धर्म,सम्प्रदाय को कोई महत्व नहीं रह जाता है |
    आत्मा अंश जीव अविनाशी,उस अविनाशी ईश्वर का स्वरुप है |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  54. BHAGWAN SHIV KAWA MAIN TO VIRAJMAAN HAIN HI SATH MAIN IN MUSALMANO KE DILL MAIN BHI VRAJMAAN HAIN KYUNKI INKA SABSE BADA TIRTHSTHAL KAWA HAIN JAAB KAWA MAIN SHIV VIRAJMAAN HAIN TO ISKA MATLAAB IN KE DILL MAIN TO 101 PERSENT HONGE HI

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  55. HAMANE BAHUT DOTSO KE LEKH DEKHE KI HAM SRESTH HAI HAM SRESTH HAI

    1. KI HAMARA KABA PATTHAR MAKKA ME MUSLMAN BHAI CHUMATE HAI LEKIN YEKY NAHI BHULATE KI HAMARE SANATAN ME RAM SETU ME ESE PATHTAR KA BHARAT SE SRILANKA TAK PUL BANA HAI YE HAMARE DHARM KA EK CHHTA SA SACHHY HAI KI HAM KITANE SRESTH HAI JO EK TUKADE PAR ITNA LIKH RAHE JO VIGYAN AJTAK YE PATA NAHI KAR PAYA KI YE PUL KESE BANA HOGA

    2.YE SAVAL UNASE POCHATE HAI KI KYA MUSALAMAN BHAI KAHATE HAI KI HAM INSAN HAI HAMARE DHARM ME INSANIYAT HAI TO YE BATAO
    1.KI TUMAHARA AGAR ALLA DVARA LIKHA GAYA DHARM HAI LEKIN USAME INASINIYAT HAI KAHA

    2.JAB MUHMAD GORI KO 17 BAR HARA KE HAMANE CHHOD KE HAMANE APNI INSANIYAT TO DIKHA DI THI OR INOHONE KAYARTA

    3.YE SAVAL UNASE JO HAMASE SAMAN KI BAT KARATE HAI UNASE POOCHTA HU KI HAMANE TO KABHI ITHAS ME MASJID NAHI TODI LEKIN TUMANE TO ITANE MANDIR TOD DI KYO KYA AP KO RACHHAS NA KAHA JAE JO BE MATALAB DHAN DOLAT KE LIYE SAB KAR GAYE ISSE TO HAMAKO LAGATA KI TUMAHARE DHARM JANAVAR NE LIKHA HOGA

    4.EK OR SAVAL YADI AP LOG YADI YE SICHATE HAI KI HAM VIGYAN ME PEECHE RAHE HONGE ME UNASE EK SAVAL POOCHATA HU KI JO DHARM ME SHONY DASAMLAV SE LEKAR ANNT KI KHOJ KI HO USAKE LIYE KYA ASMABHAV THA OR KUCHH BACHA THA JO AJ VIGAYAN UANASE HI SARE KAM KARATI HAI.

    5. JO LOG KAHATE HAI KI MANU SMARTI ME OR ISLAM ME EK BAT LIKHI HAI TO MUJHE EK R SAVAL KA JABAB DO HAMARI MANU SAMARTI ME TO KEVAL DASH VAKY SACHH HAI VO INSANIYAT KE JO HAMANE DIKHAYE BHI LEKIN APKE DHARM ME TO SEEDHE HI BAKAR IAD MANA TE HAI KYO

    6.YE LOG KAHATE HAI KI ALLAH NIRAKAR HOTA HAI UNASE POCHTA HAI JO MAA-BAAP JANM DETE HAI V NIRAKAR HOTE HAI HAMARE DHARM ME TO MA BAAP KO BHAGVAN KA ROOP MANATE HAI LEKIN APKE ITHAS ME TO BETA MAR KE BAP KE JAGAH BETH GAYE MUJHE LAGATA KI ISILIYA TUMHARE ALLAH NE APNA AKAR NAHI BATAYA KI NAHI TO AP USKA BHI KATAL KAR DETE .ISILIYE TO BOYA PED BABOOL KA AMB KAHASE KHAY ISI KARAN MOHAMAD KA POORA PRIVAR HI NIPATA DIYA JO BETA BAP KA NA HUA VO KISAKA HOGA

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  56. KABA ME SIRF BHAGWAN SIV HAI. KYO KI ESLAM KA UDAY 1500 SAL PEHLE HUA.. LEKIN DUNIYA KA SAB SE PURANA DHARM HINDU HAI.HINDU SIV JI KO PITA MANTE HAI. UN KA NAM SIV. 1500 SE PEHLE SIV NAM DIYA GYA. DHANYBAD

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  57. geta me dharm yudh ke bare me likha hai.kuruk chetra me 5 pandaw sahee the es like unhe geta me dharm yodha kha kya hai,,na ke kise dharm ka sabd hindu ya or koe sabd..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  58. अरे भाई, इतना भी मत कोसो इन ईस्लामियोंको कि ये खुद को बिमार मरीज मत समझ बैठे खुदको ा इन्हें सम्हलनेके कुछ मौके तो दे दो.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  59. आप एक बात बताओ 1400 साल पहले इस्लाम बाना उससे पहले का कोई इक सबूत दिखाओ जरा ......

    इस्लाम का इतिहास ( http://hi.wikipedia.org/s/1vx )
    इस्लाम का उदय सातवीं सदी में अरब प्रायद्वीप में हुआ । इसके अन्तिम नबी मुहम्मद साहब का जन्म 570 इस्वी में मक्का में हुआ था । लगभग 613 इस्वी के आसपास मुहम्मद साहब ने लोगों को अपने ज्ञान का उपदेशा देना आरंभ किया था । इसी घटना का इस्लाम का आरंभ माना जाता है । हँलांकि इस समय तक इसको एक नए धर्म के रूप में नहीं देखा गया था । परवर्ती वर्षों में मुहम्म्द स्० के अनुयायियों को मक्का के लोगों द्वारा विरोध तथा मुहम्म्द के मदीना प्रस्थान (जिसे हिजरा नाम से जाना जाता है) से ही इस्लाम को एक धार्मिक सम्प्रदाय माना गया । अगले कुछ वर्षों में कई प्रबुद्ध लोग मुहम्मद स्० (पैगम्बर नाम से भी ज्ञात) के अनुयायी बने । उनके अनुयायियों के प्रभाव में आकर भी कई लोग मुसलमान बने । इसके बाद मुहम्मद साहब ने मक्का वापसी की और उसे युद्ध में जीत लिया । इस घटना के बाद कई और लोग इस्लाम में परिवर्तित हुए । पर पयम्बर (या पैगम्बर मुहम्मद) को कई विरोधों का सामना करना पड़ा जिसका दमन उन्होंने युद्ध में जीत हासिल कर की ।हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का जन्म सन् ५७० में मक्का मे हुआ था । आपके के परिवार का मक्का के एक बड़े धार्मिक स्थल पर प्रभुत्व था । उस समय अरबी लोग मूर्तिपूजक थे (जो कि बाद मे इस्लाम में पाबंद हो गया )

    मैं और हिंदू धर्म सनातन है ....... कितने ही हजारो साल पुराने सबूत मिलेंगे ....... जैसे :-
    १. ऋग्वेद ( the Oldest book of the world रचना काल 7000 ईसा पूर्व) ऋग्वेद सनातन धर्म अथवा हिन्दू धर्म का स्रोत है । इसमें 1028 सूक्त हैं, जिनमें देवताओं की स्तुति की गयी है । इसमें देवताओं का यज्ञ में आह्वान करने के लिये मन्त्र हैं, यही सर्वप्रथम वेद है। ऋग्वेद को इतिहासकार हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार की अभी तक उपलब्ध पहली रचनाऔं में एक मानते हैं । यह संसार के सर्वप्रथम ग्रन्थों में से एक है। ऋक् संहिता में 10 मंडल, बालखिल्य सहित 1028 सूक्त हैं। वेद मंत्रों के समूह को सूक्त कहा जाता है, जिसमें एकदैवत्व तथा एकार्थ का ही प्रतिपादन रहता है। कात्यायन प्रभति ऋषियों की अनुक्रमणी के अनुसार ऋचाओं की संख्या 10,580 शब्दों की संख्या 1,53,526 तथा शौनक कृत अनुक्रमणी के अनुसार 4,32,000 अक्षर हैं। http://hi.wikipedia.org/s/40w

    २. राम सेतु (1,750,000 years old Ram Setu )
    Space images taken by NASA reveal a mysterious ancient bridge in the Palk Strait between India and Sri Lanka. The recently discovered bridge currently named as Adams Bridge is made of chain of shoals, c.18 mi (30 km) long.

    The bridges unique curvature and composition by age reveals that it is man made. The legends as well as Archeological studies reveal that the first signs of human inhabitants in Sri Lanka date back to the a primitive age, about 1,750,000 years ago and the bridges age is also almost equivalent.

    This information is a crucial aspect for an insight into the mysterious legend called Ramayana, which was supposed to have taken place in tredha yuga (more than 1,700,000 years ago).
    http://www.india-forums.com/forum_posts.asp?TID=914918

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  60. Are utnahi viswas us jannat k pathar par to us pe lage parda kyo nahi utha lete? Apana Raz khul jayega isiliye?
    Sanatan bhaio us kaba k pather par Sanskrit se kuch likha he. Or us par sone k patra Raja Vikramaditya ne lagaya hua tha jo aaj nahi he.
    Ab bataye Sanskrit bhasa Sanatan ki he. Vo jannat se aya hua hota to us pe urdu se kyo nahi likha kuch bhi?
    Parda utha do ek bar pata chal jayega.
    Isiliye to kahte he na ki "Parde me rahne do parda na uthao, parda jo uth gaya ti bhed................

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  61. Are utnahi viswas us jannat k pathar par to us pe lage parda kyo nahi utha lete? Apana Raz khul jayega isiliye?
    Sanatan bhaio us kaba k pather par Sanskrit se kuch likha he. Or us par sone k patra Raja Vikramaditya ne lagaya hua tha jo aaj nahi he.
    Ab bataye Sanskrit bhasa Sanatan ki he. Vo jannat se aya hua hota to us pe urdu se kyo nahi likha kuch bhi?
    Parda utha do ek bar pata chal jayega.
    Isiliye to kahte he na ki "Parde me rahne do parda na uthao, parda jo uth gaya ti bhed................

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  62. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  63. mujhe to kisi pe bhi vishwas nhi hota kyonki sab pagal h koi kya kahta he to koi kya kahta h mujhe to aisa lagta h ki jo h wo sab khud ki banai hui kalpnaye h jo logo ne dharmik or kalpanik bana di h warna kisko pata kon bhagwan h or kon allah kya h ye sab kya aap jante h agar ha to contact me.............

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  64. हुब्ल’, ‘लात्’, ‘मनात्’ ‘उज्ज’ आदि भिन्न-भिन्न अनेक देव-प्रतिमाएँ उस समय अरब के प्रत्येक कबील में लोगों की इष्ट थीं। बहुत पुराने समय में वहाँ मूर्तिपूजा न थी। ‘अमरू’ नामक काबा के एक प्रधान पुजारी ने ‘शाम’ देश में सुना कि इसकी आराधना से दुष्काल से रक्षा और शत्रु पर विजय प्राप्त होती है। उसी ने पहले-पहल ‘शाम’ से लाकर कुछ मूर्तियाँ काबा के मन्दिर में स्थापित कीं। देखादेखी इसका प्रचार इतना बढ़ा कि सारा देश मूर्तिपूजा में निमग्न हो गया। अकेले ‘काबा’ मन्दिर में 360 देवमूर्तियाँ थीं, जिनमें हुब्ल-जो छत पर स्थापित था - कुरेश - वंशियों का इष्ट था। ‘जय[1] हुब्ल’ उनका जातीय घोष था। लोग मानते थे कि ये मूर्तियाँ ईश्वर को प्राप्त कराती हैं, इसीलिए वे उन्हें पूजते थे। अरबी में ‘इलाह’ शब्द देवता और उनकी मूर्तियों के लिए प्रयुक्त होते है; किन्तु ‘अलाह’ शब्द ‘इस्लाम’ काल से पहले उस समय भी एक ही ईश्वर के लिए प्रयुक्त होता था।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  65. JO MAI JANTA HO KI PARMATMA KEWAL JYOTIRBINDU HAI JO KABHI NA UTTPAN HUWA NA HONGA AUR YE SAB LOG KEWAL USKE ANSH HAI JO KUCH SAMAY TAK DUNIYA KO SAHI RASTA DIKHTE HAI BUS

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  66. islam dharm kahi alag se nahi aya sab dharm hindu dharm se hi bane hai,,,madina me hmare bhagwan hai ye bat such hai ,,,lekin samazh me nahi ata ki jab in mullo ko bhi pta hai ki wo bhi bhagwan ki hi santan hai to ye bhutni ke humse ladte kyu hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  67. agar god sirf ek hai to ....sab dharam alag alag kyu????? iska matlab hai har dhram insaan ke dimag ki upag hai........

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  68. Must Read:-
    Kuch Kehte hai ISLAM Mahaan" or Kuch Hindu Dharm Mahaan"
    Main kehta hun Aap Sab ki Soch Mahaan" Apne Dharm ko Bada Sabit Kerne k Liye Doosre ko Neecha Dikhana" Agar Yehi ISLAM hai ya Hinduism Hai tou Main Thukrata hun Aise Dharm ko. Kyuki Maine Khud Seekha hai Jo Khud Kee Takleef Bhulakar Doosro Ko Gale Lagaye wahi ISLAM hai or Jo Allah k Naam me bhi Lord RAMA ko Sune wohi Hindu hai'
    Mujhe Nahi Pata Kisne Kuraan-E-Paak Likhi or Kisne Likhi Ramayan Par maine dono ko hi Pada hai or Agar main Galat nahi hun tou Shayad dono hi Dharm Granth hume Jeene ka Tareeka Sikhati hai, Hume Insaniyat ki Limitations Batati hai' can u imagine guys ki Agar duniya me Bhagwan ya Allah Jaisa kuch nahi hota tou kya Aaj bhi hamara Astitv jinda hota ? Answer is No" kyuki tab hum na Allah se Derte or Na hi Ram se, uss haal me Kon Gunah kerne se Khud ko Rok Pata or kon Chori kerne se Derta" or Log kyu derte hote tab.
    Log Allah se Dere (Afraid) ya Shri Ram se i mean kuch tou hona chaiye hi na Jissay Insaan ko buraiyo se door rakha ja sake' Bas issi liye kuch Bhagwan ko pooj rahe hai or kuch Allah ki Ibaadat kerte hai'
    Hum Mandir me Hath Jodker Nange Pao kyu khade hote hai ya Jahanamj pe Jhuk kr baith ker Ibaadat kyu kerte hai yeh sab main scientific reasons me bhi Explain ker sakta hun' par Dharm, Pooja, Namaz Ibadat yeh words pe Argu kerke main khud uss NAAM ki insult kerna nahi chahta jisne tou sirf Insaan ko hi banaya tha" kisis Dharm ko nahi.
    Hum Sab apne App me bahut khass hai Dosto, behtar hoga agar hum Bhagwan ya Allah ki vajah uske banaye gaye Bando (Insaano) k liye kuch ker sake.

    Or Agar iske Baad bhi mere kisi Dost ko Lagta hai ki NAHI wo jyada Mahaan hai ya Uska Dharm Vishal hai tou wo Personally mujhse Mil ker khud apne saare Confusion clear ker le, ki vaastav me wo khud kya hai ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  69. Dakhiye bhai ji mujhe koi shak nai hai pavitr sthan hai hum 100% mante hai or salaam karte hai pr hindu insaan nai jab allha ne kaynaat bnai to hindu not allow kyo hai or jo jati hindustaan mai mom Dan ki hai wo pure arab country mai kyo nai pai jati wo is liye ki hindustaan ke mom Dan can ward hai is true

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  70. Dosto makka mai hindu aloud kyo nai jab saari kaynaat allha ki hai or is zameen pr aap bhi hai or hum bhi to hai fir kyo nai dosto hindustaan ke mom Dan jo hai or pure arab country mai inki jaati ( cast) kyo nai milti mera mtlb ye hai ki hindustaan ke mom Dan 99% con ward hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  71. aby tum logo ko koi or kaam nhi hai madine kya hai or kya nhi, kya madine may agar tumhare bhagwan hai.to ja ke le k aaona fir manu.pata kuch hona to comment karna nhi chahiey samjha.ALLAHU AKBAR Allah is one.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  72. app apne bhagawan ko apne leye he khula rakha hai but kahate ho ki god is one . tho kya makka madina me one ammadmi nahi ja sakta bhagawan ko dekhne kyu etna dare huye hai app log ki bhagwan ki surkha app khud kar rahe hai .khol dejiye unka darbar sabhi kay leye chahe jaise jaye log . koe kanoon nahi hona chaeye.koe neyam kanoon nahi hona cheye . app unki kya hiphajat karege jo dusro ki khud karta hai.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  73. Muslimo ko nahaney ka tarika alag hey jisey gusl kahtey hey gusl kaerney se admi pak saf ho jata hey or wo makkah ja sakta hey tum log kya jano ki gusl kya hota hey tum to napak hi rahney waley ho tabhi to hinduo ko makkah mey janey ki ijjajat nahi hey samjhey pahley makkah janey ka or makkah ki ibadat ka tarika jano or sikho or gusl siko tab jana makkah

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  74. क्या इस बात से कोई फर्क पड़ता है कि काबा में क्या है या शिव लिंग क्या है . वास्तव में हममे से किसी ने भी इश्वर या अल्लाह या जीसस किसी को भी देका नहीं है .हम सिर्फ मानते है कि वो होता है. पर क्या जो हम मानते है क्या वो हमेशा सच ही होता है.? बहुत पहले लोग मानते थे कि सूरज घूमता है पृथ्वी के चारो ओर पर ये सच नहीं था.ऐसा बहुत कुछ जो हम पहले मानते थे भविष्य में असत्य निकला.
    हमे भगवन को सिर्फ मानने से अच्छा है उसे जाननेकि कोशिश करनी चहिये.ये जीवन बहुत छोटा है .अगर हम इसे एक दुसरे को गलत साबित करने में ही व्यर्थ कर दिया तो शयद हमारे पास समय न हो उस इश्वर को जानने का.
    वास्तव में इश्वर तो एक ही है हमने उसे अपनी सुविधा के हिसाब से बाँट दिया है.वो तो कभी भी भेद भाव नहीं करता. भेद तो हमारी नजरें करती है. उसकी नजर में तो सभी एक सामान है.उसे पाना है तो उसके जैसा बनो. सबसे प्रेम करो.

    विश्व में अनेक धर्म है.धर्म के उदय का कारण मनुष्य का डर है. अधिक शक्तिशाली लोग कमजोरों का शोषण न करें इस कारण से धर्म का उदय हुआ . पर आज यही धर्म शोषण अन्याय और लड़ाई झगडे का कारण मात्र बन गया है.
    संछेप मे सिर्फ इतना कहना है इश्वर तो एक ही है .सर्व शक्तिमान हम उसे भिन्न भिन्न रूपों में पूजते है.वो भी सही है. पर वो लोगों के बीच लड़ाई झगड़े का कारण बने ये सही नहीं है. वास्तव में इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्म है.
    मेरा सभी से बस इतना निवेदन है उसे पूजो पर उसके नाम पे लड़ो मत. इससे वो खुश तो नहीं ही होता होगा. क्योंकि वो है तो एक ही. उसके लिए तो हम सब एक सामान है .
    अगर किसी कि धार्मिक भावनाए आहात हुई हो तो क्षमाप्रार्थी हूँ. ध्यन्यवाद

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ , आलोचनाएँ और सराहनाएं लेखक को और अधिक लिखने के लिए प्रोत्साहित करती है, इसलिए लेख पढने पर आपको कैसा लगा यह ज़रूर टिपण्णी करें.

धन्यवाद.

सलीम खान (संरक्षक, स्वच्छ सन्देश

ट्रैफ़िक हवलदार Reaching at 3 Lacs Readers

मैं फ़ेसबुक पर भी हूं, पसन्द का चटका लगाएं…
सलीम खान से परिचय

स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य जी का साक्षात्कार

Interview PART 1 Interview PART 2
Loading...

Google+ Followers

अगर आप मेरे काम को पसन्द करते है और इसे और ज़्यादा बढ़ता देखना चाहते हैं तो बराए मेहरबानी इस काम के लिए मदद कीजिये. आप जो भी मदद देना चाहें वो आप swachchhsandesh@gmail.com पर मेल करके इत्तिला ज़रूर कर दीजिये.

Muslim-Helpline

1 800 11 0088

Toll Free Helpline No: 1800-110-111
(powered by TwoCircle.net)
स्वच्छ सन्देश फैन्स क्लब
इस ब्लॉग का कोई भी कॉपीराईट नहीं है. इस ब्लॉग के लेख, विचार या तत्व कोई भी, कहीं भी प्रयोग कर सकता है.

भारत में मुस्लिम आबादी कितनी है?

All India Bloggers Association

All India Bloggers Association
Join This Community

लेबल

स्वच्छसन्देश (71) सलीमख़ान (57) ज़िन्दगी की आरज़ू (39) मेरी ग़ज़ल (37) नारी (31) इस्लाम (29) इस्लाम और नारी के अधिकार (29) ईश्वर (29) मुसलमान (27) Featured (24) हिन्दुत्व (21) साम्प्रदायिकता (19) साम्प्रदायिकता का निवारण (18) बाबरी मस्जिद (17) ग़लतफहमियों का निवारण (16) हिन्दू-विद्वानों के विचार (16) स्वच्छ सन्देश (14) सामाजिक मुद्दे (13) माँसाहार या शाकाहार (12) माँसाहार (11) मेरी कहानियाँ (10) शाकाहार (10) ज़िन्दगी की आरज़ू (8) ज्वलन्त मुद्दे (8) निर्दोष मुसलमान (8) इस्लामिक बैंकिंग प्रणाली (6) बहन फिरदौस (5) विज्ञान की आवाज़ (5) सलीम खान (5) सुअर (5) सुवर (5) Hindusm and Islam (4) अज़ान का अर्थ (4) अज़ान में सम्राट अकबर (4) अमर उजाला (4) आर एस एस झूठा (4) राष्ट्रवाद की परिकल्पना (4) वेद और कुरआन (4) आतंक-परिवार (3) आतंकवादी (3) आरज़ू (3) जलजला अथवा ज़लज़ला (3) जहाज़ तो उड़ेगा ही (3) समलैंगिकता (3) Hazrat Ali (RA) (2) JAGJIT SINGH (2) SIO (2) islamhindi (2) अंतिम अवतार (2) अंधेरे से उजाले की ओर (2) आजतक (2) आतंक परिवार (2) आतंकवाद (2) आरएसएस (2) आशा (2) इस्लाम का इतिहास (2) इस्लाम ज़िंदा हो गया (2) इस्लाम में लड़कियों की शिक्षा (2) एक से अधिक पत्नी (2) औरत (2) काबा की शक्ल जैसा शराबखाना (2) कार्टूनिस्ट युसुफ़ (2) क्या खोया क्या पाया (2) गोधरा (2) गौमाता (2) जनगणना (2) ज़लज़ला (2) ज़िन्दगी (2) जिन्हें नाज़ है हिन्द पर (2) जिहाद (2) जूनियर ब्लॉगर्स एसोशियेशन (2) फर्ज़ी भगवान (2) मिश्रा जी (2) मीडिया क्रिएशन (2) मुझे पसंद है (2) मोदी मॉडल राज (2) मोहल्ला (2) ये लखनऊ की सरज़मीं (2) राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (2) शाहनवाज़ सिद्दीकी (2) स्वच्छ सन्देश की चुनौती (2) ज़ाकिर अली रजनीश (2) 15 AUGUST (1) Aspects of Sex (1) Black Day of Blogging (1) Blogger Mahendra (1) Communal Nationalism in India (1) EJAZ AHMAD IDREESI (1) Ghazal of MEER TAKI (1) India First (1) Indian Police man converts in ISlam (1) KASHIF ARIF (1) Narendra Modi (1) Nudism (1) RSS (1) SEX (1) bewafa (1) boycott republic day (1) eve teasing (1) ghazal of sahir ludhiyanvi (1) ghazal of शमीम (1) lata haya (1) noor jahan (1) queen of voice (1) rape (1) अनम (1) अपशब्द (1) आरज़ू (1) आरज़ू ओ सलीम (1) इस्लामी शरीअत में समलैंगिकता (1) ईश्वर की कल्पना (1) उदारवादी मुस्लिम (1) एक हिन्दुस्तानी (1) कन्या भ्रूण-हत्या (1) काफिरों के त्यौहारों (धार्मिक समारोहों) में भाग लेने का हुक्म (1) काशिफ आरिफ़ (1) काशिफ़ आरिफ़ (1) खुश रहे तू सदा (1) घण्टा-घर (1) ज़ाकिर अली रजनीश (1) जागो मुसलमानों जागो (1) जापान और इस्लाम (1) टोपी (1) तहलका (1) धर्म-परिवर्तन (1) धूम्रपान (1) न निराश करो मन को (1) नियोग (1) पाठकों की आवाजाही (1) पानी (1) प्रवीण शुक्ला जी (1) प्रोफाइल दृश्य (1) फतवा (1) फिरोज बख्त अहमद (1) बलात्कारियों को मौत (1) बाबरी मस्जिद के हत्यारे (1) बाबा रामदेव (1) बैन (1) ब्लॉग एग्रीगेटर का सौन्दर्य (1) ब्लॉगवाणी vs इन्डली (1) ब्लोगवाणी (1) भक्ति के नाम पर मस्ती (1) भगवा आतंकवाद (1) भारतीय मीडिया (1) भोजपुरी ब्लॉगर्स एसोशियेशन (1) भ्रष्टचार की जड़ (1) भ्रष्टाचार (1) मंसूर अहमद (1) मुलिम मतदाता (1) मुसलमानों का इतिहास (1) मुस्लिम ओर्गेनाइज़ेशन (1) मुस्लिम मतदाता (1) मुस्लिम समाज की आवाज़ (1) मूर्तिपूजक (1) मेहर (1) मोहम्मद उमर कैरान्वी (1) यह रोज़ा क्या है? (1) यह सन 2070 है (1) यौन-अनाचार (1) राम या रावण (1) राष्ट्रवाद (1) रोज़ा के प्रभाव (1) लहू बेचकर अपना मैंने कमाई है ज़िल्लत कैसी (1) वंदे मातरम (1) वन्दे-मातरम् (1) वर्ल्ड ट्रेड सेंटर (1) विश्व पर्यटन दिवस (1) शांति का कारवाँ (1) श्रीराम सेना (1) सद्दाम हुसैन (1) सलीम खान की चुनौती (1) सामूहिक ब्लॉग (1) सुप्रीम कोर्ट (1) हिन्दू (1)
 
Support : Saleem Khan | Lucknow | Uttar Pradesh
Proudly powered by Blogger
No Copyright © 2014. स्वच्छ सन्देश - No Copy Rights Reserved
Template Design by Creating Website Published by Mas Template